'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंती
'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंतीSocial Media

श्रद्धेय राय रिछपाल 'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंती पर सीएम शिवराज ने किया कोटिश: नमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज श्रद्धेय राय रिछपाल 'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंती है,मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें नमन किया है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज श्रद्धेय राय रिछपाल 'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंती है, आज 'छोटूराम' और लाचित बोड़फुकन की जयंती पर देश उन्हें याद कर नमन कर रहा है। इसी कड़ी में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर उन्हें नमन किया है।

सीएम शिवराज ने किया ट्वीट :

श्रद्धेय राय रिछपाल 'छोटूराम' की जयंती पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा- किसानों व गरीबों के हितों के लिए जीवन का हर क्षण अर्पित कर देने वाले मां भारती के सपूत, श्रद्धेय राय रिछपाल 'छोटूराम' जी की जयंती पर कोटिश: नमन् करता हूं! आपके विचारों से प्रज्ज्वलित दिव्य प्रकाश पुंज राष्ट्र के साथ असमर्थों के मंगल व कल्याण के ध्येय को आलोकित करता रहेगा।

ब्रिटिश भारत के पंजाब प्रांत के एक प्रमुख राजनेता एवं विचारक थे सर छोटू राम

सर छोटू राम, ब्रिटिश भारत के पंजाब प्रांत के एक प्रमुख राजनेता एवं विचारक थे। उन्होने भारतीय उपमहाद्वीप के ग़रीबों के हित में काम किया। इस उपलब्धि के लिए, उन्हें 1937 में 'नाइट' की उपाधि दी गई। राजनीतिक मोर्चे पर, वह नेशनल यूनियनिस्ट पार्टी के सह-संस्थापक थे, जिसने स्वतंत्रता-पूर्व भारत में संयुक्त पंजाब प्रांत पर शासन किया और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और मुस्लिम लीग को दूर रखा।

लाचित बोड़फुकन की जयंती पर सीएम शिवराज ने किया नमन

लाचित बोड़फुकन की जयंती पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा है कि, असम के गौरव, अहोम साम्राज्य के महान सेनापति वीर लाचित बोड़फुकन जी की जयंती पर कोटिश: नमन् करता हूं।आपकी वीरता की कहानियां सदैव हम भारतवासियों को गौरवान्वित करती रहेंगी और राष्ट्र सेवा एवं उन्नति में हरसंभव योगदान के लिए प्रेरित करती रहेंगी।

आहोम साम्राज्य के एक सेनापति और बरफूकन थे लाचित बरफूकन

बता दें, लाचित बरफूकन आहोम साम्राज्य के एक सेनापति और बरफूकन थे, जो कि सन 1671 में हुई सराईघाट की लड़ाई में अपनी नेतृत्व-क्षमता के लिए जाने जाते हैं, जिसमें असम पर पुनः अधिकार प्राप्त करने के लिए रामसिंह प्रथम के नेतृत्व वाली मुग़ल सेनाओं का प्रयास विफल कर दिया था।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co