सीएम शिवराज ने महान क्रांतिकारी 'रास बिहारी बोस' की जयंती पर किया नमन
रास बिहारी बोस की जयंतीSocial Media

सीएम शिवराज ने महान क्रांतिकारी 'रास बिहारी बोस' की जयंती पर किया नमन

भोपाल, मध्यप्रदेश। आज महान क्रांतिकारी रास बिहारी बोस की जयंती है, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज ने रासबिहारी बोस की जयंती पर उन्हें नमन किया।

भोपाल, मध्यप्रदेश। एमपी में जहां महामारी कोरोना का कहर जारी है, वहीं इस बीच कई महान विभूतियों की जयंती सामने आ रही हैं, मिली जानकारी के मुताबिक आज महान क्रांतिकारी रास बिहारी बोस की जयंती है, बता दें कि आज के दिन रासबिहारी बोस का जन्म बंगाल में वर्धमान जिले में हुआ था, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रास बिहारी बोस की जयंती पर उन्हें नमन किया।

सीएम शिवराज ने ट्वीट के जरिए किया नमन-

एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज ने ट्वीट कर कहा- मां भारती के वीर सपूत, महान क्रांतिकारी, रास बिहारी बोस की जयंती पर कोटिश नमन किया, आपका संघर्षशील और गौरवपूर्ण जीवन सदैव भावी पीढ़ियों को राष्ट्र की सेवा एवं उत्थान के लिए प्रेरित करता रहेगा। स्वतंत्रता संग्राम में आपके अप्रतिम योगदान के लिए देश का कण-कण ऋणी रहेगा।

प्रसिद्ध वकील, शिक्षाविद और स्वतंत्रता सेनानी रास बिहारी बोस जी की जयंती पर उन्हें नमन करता हूं, आजाद हिन्द फौज के निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले रास बिहारी बोस का आजादी की लड़ाई में अहम योगदान रहा है

सीएम शिवराज ने कहा-

नरोत्तम मिश्रा ने भी किया ट्वीट

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर आज़ाद हिन्द फ़ौज के प्रणेता, प्रखर राष्ट्रवादी एवं महान शिक्षाविद रास बिहारी बोस जी की जयंती पर सादर नमन और विनम्र श्रद्धांजलि दी, नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि विदेशों में क्रांतिकारी शक्तियों को संगठित कर आजादी की अलख जगाने में उनका अहम योगदान हमेशा याद किया जाएगा।

बताते चलें कि रास बिहारी बोस का जन्म 25 मई, 1886 को बंगाल के वर्धमान जिले के सुभलदा गांव में हुआ था, उन्होंने चांदनगर से अपनी पढ़ाई की। उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम, गदर आंदोलन और आजाद हिंद फौज के गठन में अहम भूमिका निभाई। स्कूल के दिनों से ही वह क्रांतिकारी गतिविधियों की ओर आकर्षित थे, बहुत ही कम उम्र में उन्होंने क्रूड बम बनाना सीख लिया था।

21 जनवरी 1945 को हुआ था रासबिहारी बोस का निधन :

रास बिहारी बोस देश के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे, रासबिहारी बोस ने आजाद हिंद फौज के गठन में अहम भूमिका निभाई थी जिसकी कमान बाद में उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को सौंपी थी वही रासबिहारी बोस का निधन 21 जनवरी, 1945 को हुआ था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co