सीएम शिवराज ने स्वसहायता समूहों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 200 करोड़
स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रमSocial Media

सीएम शिवराज ने स्वसहायता समूहों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 200 करोड़

भोपाल, मध्यप्रदेश : "स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम" मुख्यमंत्री ने सिंगल क्लिक के माध्यम से महिला स्व-सहायता समूहों के बैंक खाताें में 200 करोड़ की राशि ट्रांसफर की।

भोपाल, मध्यप्रदेश। कोरोना संकट के बीच आज मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम आयोजित हैं। भोपाल के मिंटो हॉल में आयोजित स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम में सीएम शिवराज ने रिमोट का बटन दबाकर ई-कॉमर्स पोर्टल आजीविका मार्ट का लोकार्पण किया, यह पोर्टल स्व-सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा बनाए उत्पादों को बाजार देने के लिए तैयार किया गया है।

स्वसहायता समूहों के बैंक खातों में 200 करोड़ ट्रांसफर :

प्रदेश की राजधानी भोपाल के मिंटो हॉल से स्व सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट मंत्री के साथ सिंगल क्लिक के माध्यम से महिला स्व-सहायता समूहों के बैंक खाताें में 200 करोड़ की राशि का वर्चुअल ट्रांसफर किया।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम में झाबुआ जिले के गीतांजलि महिला बचत समूह, भगौर की किरण से संवाद किया। किरण ने बताया कि गांव में 18 समूहों से 240 महिलाएं जुड़ी हुई हैं। इससे महिलाओं और गांव के युवाओं को काम मिला। यहां समूह की महिलाएं किराना दुकान, फोटो कॉपी मशीन, सब्जी दुकान आदि काम करती हैं। उन्होंने बताया कि गांव की महिलाएं 10 हजार से 25 हजार महीना कमाती है।

 स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम
स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रमSocial Media

वही शहडोल के स्वसहायता समूह की पिंकी कुशवाहा ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे किराना एवं जनरल स्टोर चला रही हैं और उनकी प्रतिमाह आमदनी 10 से 20 हजार रुपये है। सतना के स्व-सहायता समूह की अनिता माझी ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनका समूह स्कूली बच्चों का गणवेश तैयार कर रहा है। गांव की हम महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ा है और अब बैंकों तक का काम खुद ही कर रही हैं।

स्व-सहायता समूह क्रेडिट कैंप कार्यक्रम में शिवराज ने कहा-

सीएम शिवराज ने आयोजित कार्यक्रम में कहा कि आजीविका समूह, स्वसहायता समूहों की संख्या हम लगातार बढ़ाएंगे। इनके गठन के बाद हम ट्रेनिंग देंगे और बैंक लिंकेज करेंगे। हम पोर्टल के माध्यम से देश और उसके बाद विदेश में इनके बनाए उत्पाद बेचेंगे, मार्केटिंग और ब्रांडिंग में सरकार मदद करेगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co