ग्वालियर : पेनेसिया और केयर हॉस्पिटल को सीएमएचओ ने जारी किया नोटिस

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मनीष शर्मा ने पेनेसिया और केयर हॉस्पिटल संचालक को नोटिस जारी किया है।
ग्वालियर : पेनेसिया और केयर हॉस्पिटल को सीएमएचओ ने जारी किया नोटिस
पेनेसिया और केयर हॉस्पिटल को सीएमएचओ ने जारी किया नोटिसSocial Media

हाइलाइट्स :

  • महिला की मौत के बाद किया था निरीक्षण, मिली थीं कई खामियां

  • पेनिसिया को सात और केयर हॉस्पिटल प्रबंधन को तीन दिन में देना होगा जवाब

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मनीष शर्मा ने पेनेसिया और केयर हॉस्पिटल संचालक को नोटिस जारी किया है। साथ ही उन्होंने स्पष्ट आदेश दिए हैं कि पेनेसिया हॉस्पिटल प्रबंधन ने सात दिन और केयर हॉस्पिटल संचालक ने तीन दिन में जवाब पेश नहीं किया। तो एक पक्षीय कार्रवाई की जाएगी।

सीएमएचओ ने जारी नोटिस में लिखा है कि तानसेन नगर स्थित पेनेसिया हॉस्पिटल में विगत दिवस एक महिला की मौत हो गई थी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम हॉस्पिटल का निरीक्षण करने पहुंची थी। निरीक्षण के दौरान टीम को हॉस्पिटल में दो मरीज भर्ती मिले। लेकिन मौके पर एक भी चिकित्सक और पंजीकृत नर्सिंग स्टाफ नहीं मिला था। काफी देर बाद बुलाने पर डॉ. शिवम सिंह आए जो कि बीएचएमएस योग्यताधारी हैं। डॉ.शिवम ने बताया कि वह पेनेसिया हॉस्पिटल में ड्यूटी डॉक्टर के रूप में कार्य करते हैं। वहीं डॉ.रोहित प्रताप सिंह तोमर ने बताया कि वह हॉस्पिटल में विजिटिंग चिकित्सक के रूप में कार्यरत हैं एवं बुलाने पर ही उपस्थित होते है। जब डॉ.तोमर से मृतक संगीता अग्रवाल के संबंध में जानकारी मांगी तो उन्होंने यह बतलाने से साफ इंकार कर दिया कि उसे किसके द्वारा यहां भर्ती किया गया। साथ ही अस्पताल में और कई प्रकार की खामियां मिली हैं। जो रूजोपचार संबंधी स्थापना में रजिस्ट्रीकरण तथा अनुज्ञापन नियम 1997 स्पष्टत: उल्लंघन किया जा रहा है। इसलिए आप सात दिवस में जवाब प्रस्तुत करें, नहीं तो हॉस्पिटल के विरूद्ध एक पक्षीय कार्रवाई की जाएगी।

प्रोटोकॉल का पालन न करने पर जारी हुआ नोटिस :

7 नवम्बर चौराहा, मुरार स्थित केयर हॉस्पिटल संचालक को भी नोटिस जारी किया गया है। जारी आदेश में सीएमएचओ ने लिखा है कि 15 अक्टूबर को भागवती देवी को केयर नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया था। जिसकी एन्टीजन किट द्वारा कोविड जांच की गई । इसमें मरीज पॉजीटिव आया। लेकिन रैमडेसिविर इंजेक्शन भी निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन न करते हुए मरीज को दिया गया। साथ ही मरीज की कोरोना रिपोर्ट भी जनरेट नहीं की गई और और न ही स्थानीय प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को इस संबंध मे अवगत कराया गया। इतना ही नहीं मरीज की हालत बिगडऩे पर बिना सक्षम अधिकारी की अनुमति के हायर सेंटर रैफर किया गया, जो कि शासन द्वारा कोबिड-।9 की निर्धारित गाईडलाईन्स का स्पष्ट उल्लंघन दर्शाता है। इसलिए आप तीन दिवस में जवाब प्रस्तुत करें, नहीं तो एक पक्षीय कार्रवाई की जाएगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co