भोपाल : नवंबर की पहली रात सबसे ठंडी, 13. 5 डिग्री तक लुढ़का पारा

भोपाल, मध्य प्रदेश : नवंबर 2020 की पहली रात में पारा 13.5 डिग्री तक लुढ़क गया। रात के पारे ने पिछले साल के नवंबर महीने का रिकार्ड तोड़ दिया है। उत्तर से आई हवा ने शहर की फिजा में ठंडक घोल दी।
भोपाल : नवंबर की पहली रात सबसे ठंडी, 13. 5 डिग्री तक लुढ़का पारा
नवंबर की पहली रात सबसे ठंडी, 13. 5 डिग्री तक लुढ़का पाराSocial Media

भोपाल, मध्य प्रदेश। नवंबर 2020 की पहली रात में पारा 13.5 डिग्री तक लुढ़क गया। रात के पारे ने पिछले साल के नवंबर महीने का रिकार्ड तोड़ दिया है। उत्तर से आई हवा ने शहर की फिजा में ठंडक घोल दी। करीब सवा माह बाद दिन और रात का तापमान सबसे कम रहा। साल 2019 में एक बार भी पारा 13.8 के नीचे नहीं पहुंचा था। तब 19 नवंबर को तापमान 13.8 दर्ज किया गया था, जबकि इस साल नवंबर महीने के पहली रात ही तापमान 13.5 डिग्री रिकार्ड किया गया। वहीं, बीते 8 साल में नवंबर माह की शुरूआत में कभी भी रात का तापमान 14 डिग्री सेल्सियस से नीचे नहीं गया है। मौसम विज्ञानियों ने इस साल कड़ाके की ठंड़ पडऩे की बात कही है और अक्टूबर की विदाई के साथ ही ठंड़ बढऩे लगी है। दिन का पारा भी सामान्य से कमसामान्यत: नवंबर की शुरुआत में रात का तापमान इतना नीचे नहीं जाता है, लेकिन अचानक तापमान में हुई गिरावट से नवंबर माह के पहले दिन में ही सर्दियों के आगमन का एहसास हो गया है। बीते कई दिनों बाद पिछले दो दिन से रात के साथ ही दिन का तापमान भी सामान्य से क म दर्ज किया गया। शनिवार के बाद रविवार को भी शाम ढ़लते ही पारा 3 घंटे में 7.2 डिग्री नीचे लुढ़क गया, जिसकी वजह से ठंड महसूस होने लगी। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार रात की तरह ही रविवार शाम 5.30 बजे से रात 8.30 तक तापमान में काफी तेजी से गिरावट दर्ज की गई। शनिवार-रविवार की दरमियानी रात तापमान 13.5 तक गिर गया, जो कि सामान्य से तीन डिग्री कम हैं। वहीं दिन का पारा सामान्य से एक डिग्री कम 30 डिग्री दर्ज किया गया। रविवार को दिन में दृश्यता 3000 से 4000 मीटर के बीच रही, जबकि सामान्य तौर पर 6000 मीटर रहती है।

8 साल का टूटा रिकॉर्ड :

बीते 8 साल में नवंबर माह की पहली रात का तापमान 14 डिग्री सेल्सियस से नीचे नहीं गया है। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि आने वाले दिनों में ठंड़ के तेवर तीखे होने के साथ ही नवंबर माह में ठंड़ के नए रिकार्ड बन सकते हैं।

पहली नवंबर का पिछले 8 साल का न्यूनतम तापमान :

  1. 2012 - 16.2

  2. 2013 - 17.2

  3. 2014 - 17.4

  4. 2015 - 17.8

  5. 2016 - 14.8

  6. 2017 - 15.6

  7. 2018 - 18.6

  8. 2019 - 20.8

कोल्ड इवेंट का दिखेगा असर :

इस साल अक्टूबर माह के अंत में रात में गुलाबी ठंड का अहसास होने लगा है और तापामान पिछले दो सालों से भी नीचे पहुंच गया है। पिछले दो सालों में पूरे अक्टूबर में रात का सबसे कम तापमान 16.0 डिग्री से नीचे नहीं पहुंचा है। लेकिन अब नवंबर के आगाज के साथ ही दिन का तापमान भी घटने लगा है। इससे ठंड़ के तेवर बदलने लगे हैं। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि प्रशांत महासागर में ला-नीना प्रभाव का दिखने लगा है। इसके असर से नवंबर, दिसंबर माह में प्रदेश में भी जबरदस्त ठंड पड़ेगी। ला-नीना एक प्राकृतिक घटना है। ला-नीना की स्थितियां पैदा होने पर भूमध्य रेखा के आस-पास प्रशान्त महासागर के पूर्वी तथा मध्य भाग में समुद्री सतह का तापमान असामान्य रूप से ठंडा हो जाता है। मौसम विज्ञानियों की भाषा में इसे कोल्ड इवेंट कहा जाता है।

एक सप्ताह में शुरू होगी तेज ठंड राजधानी में अब सर्दी धीरेधीरे पांव पसारने लगी है। मौसम विभाग ने नवंबर के पहले सप्ताह में सर्दी बढऩे की संभावना जताई है। वहीं दिसम्बर में कड़ाके की सर्दी पड़ने का अनुमान जताया है। ला नीना का प्रभाव भी दिसंबर से दिखने लगेगा। अल नीनो और ला नीना दक्षिणी ऑसीलेशन चक्र के हिस्से होते हैं। प्रशांत महासागर में वर्तमान में तापमान 0.5 डिग्री से भी नीचे है, यह भी कड़ाके की सर्दी का संकेत है। मौसम विभाग के विशेषज्ञों के अनुसार नवंबर के पहले सप्ताह में तापमान में 2 से लेकर 4 डिग्री की गिरावट दर्ज हो सकती है। इस बार सर्दी के दिनों में बढ़ोत्तरी हुई है। इस बार 10 दिन अधिक सर्दी पडऩे की संभावना बन रही है।

इन परिस्थितियों पर निर्भर हैं ठंड के तेवरमौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि तेज सर्दी दिसंबर से शुरू होगी। ये इस बात पर भी निर्भर करेगा कि उत्तरी भारत के हिमाचल, जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी की क्या स्थिति रहती है, क्योंकि जब इन पठारी क्षेत्रों में बर्फबारी होती है तभी मैदानी क्षेत्र तेजी से ठंडे होने शुरू होते हैं। इसके अलावा प्रदेश में आने वाले पश्चिमी विक्षोभ भी सर्दी को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते है। पश्चिमी विक्षोभ के आने से ही प्रदेश में मावठ होगी, जो खेती के लिए अनुकूल रहेगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co