Raj Express
www.rajexpress.co
बच्चों को ढंग से नहीं पढ़ाने वाले 96 शिक्षकों पर गिरेगी गाज
बच्चों को ढंग से नहीं पढ़ाने वाले 96 शिक्षकों पर गिरेगी गाज|Pankaj Yadav
मध्य प्रदेश

बच्चों को ढंग से नहीं पढ़ाने वाले 96 शिक्षकों पर गिरेगी गाज

छतरपुर, मध्यप्रदेश : विभाग ने लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों पर कार्यवाही करने का नोटिस किया जारी, दक्षता संवर्धन कार्यक्रम के बाद होगी समीक्षा बैठक।

Pankaj Yadav

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में 96 शिक्षकों पर अपने काम में लापरवाही बरतने के संबंध में बड़ी कार्यवाही करने की तैयारी कर ली गई है। दक्षता संवर्धन कार्यक्रम के अंतर्गत कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों की दक्षता को बढ़ाने में नाकामयाब रहे जन शिक्षकों एवं उनकी निगरानी करने वाले बीआरसीसी और बीईओ सहित 96 शिक्षकों की वेतनवृद्धियां रोकने के नोटिस जारी किए गए हैं। कलेक्टर मोहित बुंदस के द्वारा पिछले दिनों हुए दक्षता के मिडिल लाइन टेस्ट के आधार पर लापरवाह मास्टरों के खिलाफ नोटिस जारी किए गए हैं।

6 जनवरी के एंड टेस्ट के बाद होगी दोबारा समीक्षा :

बता दें कि,जारी नोटिस में कुछ कर्मचारियों की एक तो वहीं कुछ कर्मचारियों की दो-दो वेतन वृद्धियां रोकी गई हैं। यही नहीं बिजावर के प्रभारी बीआरसीसी प्रकाश चौरसिया, बकस्वाहा की प्रभारी बीआरसीसी फरजाना कुरैशी को तो पदमुक्त किए जाने के भी नोटिस दिए गए हैं। बच्चों की शिक्षा के प्रति लापरवाह मास्टरों के खिलाफ यह सख्त कार्यवाही जनवरी के बाद सुनिश्चित हो जाएगी, क्योंकि 6 जनवरी को होने वाले दक्षता कार्यक्रम के एंड लाइन टेस्ट के बाद दोबारा इसकी समीक्षा की जाएगी।

क्या है दक्षता संवर्धन कार्यक्रम :

राज्य शासन के द्वारा निर्देशित किया गया है कि कक्षा 3 से 5 एवं 6वीं से 8वीं तक के बच्चों की पढ़ाई को दक्षता टेस्ट के माध्यम से जांचा जाए और इनकी पढ़ाई के प्रति लापरवाह शिक्षकों की जिम्मेदारी तय की जाए। इस कार्यक्रम के अंतर्गत वर्ष भर में इन कक्षाओं में पढ़ने वाले बच्चों के हिन्दी और गणित विषय के तीन टेस्ट कराए जा रहे हैं। बेस लाइन, मिडिल लाइन और एंड लाइन टेस्ट। अक्टूबर 2019 में दक्षता कार्यक्रम के अंतर्गत मिडिल लाइन टेस्ट लिए गए थे। इन्हीं टेस्ट के रिजल्ट को ऑनलाइन फीड किया गया था। अब इसी परिणाम के आधार पर शिक्षकों के विरुद्ध यह नोटिस जारी किए गए हैं। कुल मिलाकर आसान भाषा में समझा जाए तो दक्षता कार्यक्रम का मतलब यह है कि तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों को उस कक्षा के सिलेबस का ज्ञान नहीं है तो ऐसे में मास्टरों पर कार्यवाही की जाएगी।

इनके विरुद्ध जारी हुए नोटिस :

लवकुशनगर बीईओ एमके कौटार्य सहित लवकुशनगर क्षेत्र के विनोद कुमार बाजपेयी, आरपी चौरसिया, लक्ष्मीदीन प्रजापति, रामहित बाजपेयी, छतरपुर बीआरसीसी अशोक कुमार मिश्रा सहित बीएसी मुलायम सिंह सिसौदिया, रामनरेश पाठक, संजय कुमार चौहान, बीजीसी सुधा पटेल समेत अन्य लोगों के विरुद्ध नोटिस जारी किए गए हैं।

उक्त सभी शिक्षकों एवं जिम्मेदार अधिकारियों को दक्षता संवर्धन के मिडिल लाइन टेस्ट के आधार पर यह नोटिस जारी किए गए हैं। कलेक्टर ने अक्टूबर में हुई परीक्षा के आधार पर उक्त कार्यवाही प्रस्तावित की है यदि संतोष जनक जवाब नहीं दिया जाता अथवा एंडलाइन टेस्ट में सुधार नहीं होता तो शिक्षकों पर यह कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।

आरपी लखेर, डीपीसी, छतरपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।