कोरोना मरीजो की टेस्टिंग रिपोर्ट का सतत करें रिव्यू - कमिश्नर
कोरोना मरीजो की टेस्टिंग रिपोर्ट का सतत करें रिव्यू - कमिश्नर|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

खबर का असर : कोरोना मरीजो की टेस्टिंग रिपोर्ट का सतत करें रिव्यू - कमिश्नर

शहडोल, मध्य प्रदेश : कमिश्नर ने मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन सिलेण्डरो की आवश्यकताओं के मद्देनजर अधिकारियों को निर्देश दिये है कि आक्सीजन सिलेण्डरों की मेडिकल कॉलेज में सतत आपूर्ति सुनिश्चित की जाएं।

Afsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। कमिश्नर नरेश पाल ने कोरोना मरीजो की टेस्टिंग रिपोर्ट का प्रतिदिन रिव्यू करने के निर्देश मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को दिये है। कमिश्नर ने कहा है कि मेडिकल कॉलेज द्वारा सैंपल टेस्टिंग की पॉजिटिव रिपोर्ट और सुब्राटेक इंदौर से प्राप्त टेस्टिंग रिपोर्ट का भी प्रतिदिन रिव्यू किया जाए। उन्होने कहा है कि टेस्टिंग रिपोर्ट को लेकर किसी भी प्रकार का संशय नही होना चाहिए। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि मेडिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमण के कारण हो रही हर मृत्यु की रिपोर्ट तैयार करने के लिये मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजेश पाण्डेय, सिविल सर्जन जिला चिकित्सालय डॉ. व्ही.एस . बारिया एवं मेडिकल कॉलेज के चिकित्सको की एक कमेटी गठित की जाए, यह कमेटी मेडिकल कॉलेज में कोरोना से हुई मृत्यु का विश्लेषणकर रिपोर्ट देगी। राज एक्सप्रेस ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया था, जिसके बाद कमिश्नर ने ठोस पहल की।

स्वास्थ्य सेवाओं को करें बेहतर :

कमिश्नर ने मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाओं के संबंध में आयोजित बैठक में मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को निर्देश दिये कि कोरोना संक्रमण के प्रकरणों में वृद्वि को दृष्टिगत रखते हुए मेडिकल कॉलेज में स्वास्थ्य सेवाओं को और अधिक बेहतर से बेहतर बनाने के प्रयास किये जाएं। कमिश्नर ने मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा के दृष्टिगत मरीजों की, आक्सीजन सिलेण्डरो की आवश्यकताओं के मद्देनजर अधिकारियों केा निर्देश दिये है कि आक्सीजन सिलेण्डरों की मेडिकल कॉलेज में सतत आपूर्ति सुनिश्चित की जाएं।

सैम्पलों की री टेस्टिंग का होगा विश्लेषण :

कमिश्नर ने मेडिकल आक्सीजन के संभाग के आपूर्तिकर्ताओ से भी चर्चा की तथा कहा कि शासन के निर्धारित मापदण्डों एवं दरों के अनुरूप मेडिकल कॉलेज की आवश्यकता के अनुरूप आक्सीजन सिलेण्डर की आपूर्ति सुनिश्चित करने में वे सहयोग प्रदान करें। कमिश्नर ने निर्देश दिये कि प्राप्त सैम्पलों की री टेस्टिंग डॉटा का विश्लेषण कर यह जानकारी प्रस्तुत की जाये कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में कहा-कहा पर लोग प्रभावित रहे है, ताकि आगे की योजना बनाई जा सके तथा प्रबंधन द्वारा अन्य जिलो से खाली सिलेण्डर प्राप्त किये जाये ताकि आक्सीजन का रिजर्व स्टॉक सदैव उपलब्ध रहें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co