सिया के निर्देश और एनजीटी की गाइड लाईन के पालन के लिए प्रतिबद्ध
सिया के निर्देश और एनजीटी की गाइड लाईन के पालन के लिए प्रतिबद्ध|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

सिया के निर्देश और एनजीटी की गाइड लाईन के पालन के लिए प्रतिबद्ध

शहडोल, मध्य प्रदेश : वंशिका ग्रुप में 30 जून से उत्खनन किया बंद, लोडी में फंसी मशीन से नहीं लेना-देना।

Afsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। खनिज विकास निगम के द्वारा जिले की 50 रेेत खदानों का ठेका नरसिंहपुर के वंशिका कंस्ट्रक्शन को सौंपा है, ग्रुप के द्वारा मानसून सत्र के पहले 4 खदानें संचालित कर रखी थी, जिनमें भुरसी, भटगवां खुर्द, रसपुर और बोडिहा शामिल हैं। खनिज विभाग से वंशिका ग्रुप को 4 रेत के भण्डारण स्वीकृत किये गये हैं, एनजीटी की गाइड लाईन के तहत सिया ने 30 जून से मानसून सत्र के दौरान 1 अक्टूबर तक रेत खनन पर पाबंदी लगाई है, इस दौरान कंपनी के द्वारा उत्खनन का कार्य बंद कर स्वीकृत भण्डारण से अपना व्यापार संचालित किया जा रहा है। बीते दिनों से सोशल मीडिया में कंपनी द्वारा उत्खनन और लोडी में मशीन फंसने की खबरें सामने आ रही थी, ग्रुप ने इस मामले में अपना बयान जारी करते हुए कहा है कि न तो उत्खनन से कंपनी का कोई वास्ता है और न ही लोडी में जो मशीन फंसी है, उससे कोई लेना देना है।

विभाग को दी सूचना :

वंशिका कंस्ट्रक्शन ने खनिज विभाग को पत्र लिखते हुए इस बात से अवगत कराया है कि 30 जून के बाद से कंपनी ने उत्खनन का कार्य पूर्णत: बंद कर दिया है, केवल स्वीकृत रेत भण्डारणों से ही रेत का परिवहन कराया जा रहा है, अवैध उत्खनन से कंपनी का कोई वास्ता नहीं है, जैसे की खबरें प्रशासन और पुलिस तक सोशल मीडिया के माध्यम से पहुंचाई जा रही है।

नहीं रूक रहा अवैध उत्खनन :

वंशिका कंस्ट्रक्शन के द्वारा पत्र में यह भी उल्लेख किया गया है कि अवैध उत्खनन की सूचना मिलने पर विभाग के साथ सख्ती से उसे रोकने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन विभिन्न नदी और नालों से अवैध उत्खनन कड़ी कार्यवाही के बाद भी नहीं रूक रहा है।

मशीन से नहीं वास्ता :

कंपनी के मुताबिक बीते दिनों सोशल मीडिया में यह खबरें वॉयरल हो रही है कि गोहपारू तहसील के लोडी रेत खदान में एक पोकलेन मशीन कीचड़ में फंसी हुई है, जो कि वंशिका कंस्ट्रक्शन की है और ग्रुप के द्वारा उत्खनन कराया जा रहा है, कंपनी की ओर से जारी विज्ञप्ति में उल्लेख किया गया है कि लोडी रेत खदान में फंसी हुई मशीन न तो कंपनी की है और न ही उससे कोई लेना-देना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co