कांग्रेस ने देश में हमेशा से जातिवाद व तुष्टीकरण की राजनीति को हवा दी है

श्री थावरचन्द गेहलोत ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से ही फूट डालो और राज करो की नीति पर काम करते हुए देश में हमेशा से जातिवाद व तुष्टीकरण की राजनीति को हवा दी है।
कांग्रेस ने देश में हमेशा से जातिवाद व तुष्टीकरण की राजनीति को हवा दी है
थावरचन्द गेहलोत ने सांवेर में कार्यकर्ता सम्मेलन को सम्बोधित कियाSocial Media

इंदौर, मध्य प्रदेश। शनिवार को केन्द्रीय मंत्री थावरचन्द गेहलोत की उपस्थिति में सांवेर विधानसभा केन्द्रीय कार्यालय बेस्ट गार्डन परिसर, सांवेर में भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा का सम्मेलन संपन्न हुआ। सम्मेलन की शुरूआत भारत माता, पं.दीनदयाल उपाध्याय एवं डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण कर केन्द्रीय मंत्री थावरचन्द गेहलोत, सांवेर विधानसभा उपचुनाव सह प्रभारी इकबाल गांधी, अजा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष सुरज कैरो, प्रताप करोसिया, शैलेष गिरजे, भगवान परमार ने किया।

केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत को सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से ही फूट डालो और राज करो की नीति पर काम करते हुए देश में हमेशा से जातिवाद व तुष्टीकरण की राजनीति को हवा दी है। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने अपने 15 महीनों के कार्यकाल में चुनाव के समय जारी किए गए अपने वचन पत्र का एक भी वादा पूरा नहीं किया। अब 28 विधानसभाओं के चुनाव देखते हुए कमलनाथ एक और पूरक वचनपत्र ले आए हैं, ताकि एक बार फिर से जनता की आंखों में धूल झोंकी जा सके। लेकिन प्रदेश की जनता संवेदनशील है और उसने कमलनाथ सरकार की 15 महीनों की कारगुजारियों को देखा है। इसलिए वह किसी भी तरह कांग्रेस और कमलनाथ के झांसे में आने वाली नहीं है।

श्री गेहलोत ने कहा कि कांग्रेस का यह वचन पत्र पार्टी की अंदरूनी हालत को प्रकट करता है। इसमें कोई घोषणा नहीं है। कमलनाथ के अलावा कोई दूसरा नेता इस वचन पत्र में कही नजर नहीं आता और न ही किसी का जिक्र है। नया वचन पत्र जारी करते समय कमलनाथ जी ने 4 मिनट में 5 बार भारतीय जनता पार्टी और मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को कोसा। इससे पता चलता है कि कांग्रेस और कमलनाथ हमारे मुख्यमंत्री श्री चौहान और भारतीय जनता पार्टी से किस कदर भयभीत हैं। कमलनाथ जी के पास अगर नए वचनपत्र में जनता को देने के लिए कोई वादा नहीं था, तो कम से कम पुराने वचनपत्र के वादे पूरे न करने के लिए जनता से माफी ही मांग लेते। वचनपत्र देखकर लगता है कि अब राहुल गांधी भी कमलनाथ से हाथ खींचने लगे हैं, क्योंकि 10 दिन में कर्जमाफी का वादा उन्होंने ही किया था, जो कभी पूरा नहीं हुआ।

श्री गेहलोत ने कहा कि कांग्रेस ने अपने 2018 के वचन पत्र में कहा था कि हम अनाज, सब्जियों पर किसानों को बोनस देंगे, दूध पर बोनस देंगे, लेकिन किसी किसान को एक रुपया बोनस नहीं दिया।

श्री गेहलोत ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि आक्रमता के साथ हमें केन्द्र तथा राज्य सरकार की उपब्धियों के बारे में प्रत्येक मतदाताओं को अवगत कराकर तथा कांग्रेस के 15 माह के कुशासन में प्रत्येक वर्ग परेशान था जानकारी देना है। जिससे मतदाता सही और गलत का फैसला कर सके। सम्मेलन में सभी कार्यकर्ताओं को मुठ्ठी बंद करके हाथ उपर उठाकर संकल्प दिलाया गया कि उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के लोकप्रिय प्रत्याशी तुलसीराम सिलावट को प्रत्येक बूथ से प्रचण्ड बहुमत से विजयी बनाना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co