Raj Express
www.rajexpress.co
दिग्विजय सिंह की केंद्र को सलाह- इस तरह से हो राम मंदिर का निर्माण
दिग्विजय सिंह की केंद्र को सलाह- इस तरह से हो राम मंदिर का निर्माण|Social Media
मध्य प्रदेश

बाबरी मस्जिद विध्वंस पर ट्वीट के चलते ट्रोल हुए कांग्रेस नेता

अक्सर विवादों में रहने वाले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह एक बार फिर अपने बयान की वजह से विवाद में घिर चुके हैं।

रवीना शशि मिंज

राज एक्सप्रेस। रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला आने के बाद नेताओं की प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं। सभी नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए उसे स्वीकार लिया है। मगर एक नेता ऐसे हैं जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एक सवाल खड़ा कर दिया है।

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा, 'माननीय उच्चतम न्यायालय ने राम जन्म भूमि फ़ैसले में बाबरी मस्जिद को तोड़ने के कृत्य को ग़ैर क़ानूनी अपराध माना है। क्या दोषियों को सज़ा मिल पायेगी? देखते हैं 24 साल हो गये।'

बता दें कि कल सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में 1934 में मस्जिद को नुकसान पहुँचाने, 1949 में अपवित्र करने और 1992 में मस्जिद के गिराने को कानून का उल्लंघन माना है। इस पर दिग्विजय ने सवाल किया है। दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट के बाद लोग भड़क उठे और उन्हें काफी ट्रोल भी करने लगे।

दिग्विजय सिंह के समर्थन में ये मंत्री आए आगे

दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह अपने ट्वीट के बाद काफी ट्रोल होने लगे। जिसके बाद उन्हीं की पार्टी के सहकारी मंत्री गोविंद सिंह आगे आए।

बाबरी मस्जिद तोड़ने वाले दोषियों को सज़ा होनी चाहिए। संविधान सबके लिए बराबर है, मैं भी कहता हूँ ऐसे लोगों को सज़ा मिले जिन्होंने ऐसे काम किया है।

डॉक्टर गोविंद सिंह (सहकारी मंत्री)

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने एक और ट्वीट किया था। जिसमें उन्होंने कांग्रेस की बढ़ाई की थी। उन्होंने लिखा था,

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला

6 दिसंबर 1992 को बड़ी संख्या में कार सेवकों ने बाबरी मस्जिद के ढांचे को गिरा दिया था। इस मामले में कई नेताओं के नाम आगे आए थे। जिनके खिलाफ ट्रायल भी चल रहा है, फैसला आना अभी बाकी है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।