प्रभात झा ने मांगे कांग्रेस सबूत
प्रभात झा ने मांगे कांग्रेस सबूत|Social Media
मध्य प्रदेश

कहने से नहीं होते बिकाऊ, सबूत दे कांग्रेस: प्रभात

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : पत्रकारों से चर्चा में छलका दर्द, बोले पार्टी कहे तो गेट पर चौकीदारी कर लूं।

राज एक्सप्रेस

राज एक्सप्रेस

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राज्यसभा सदस्य प्रभात झा ने कहा है कि सिर्फ बिकाऊ बिकाई चिल्लाने से कुछ नहीं होगा। कांग्रेस को चुनौती है कि उसके पास सबूत है तो सामने लाए। क्या कांग्रेस के विधायक इतने कमजोर थे कि बिक गए। बिकाऊ कहना जनप्रतिनिधि का अपमान है।

झा ने गुरुवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि हमारे दरवाजे पर सरकार चलकर आई तो क्या नहीं बनाते। भाजपा ने कोई जोड़-तोड़ नहीं की और वह अपने ही लोगों के बोझ के कारण गिर गई। कमलनाथ जी ने जो वचन पत्र जनता के सामने रखा, उसे पूरा नहीं किया, जिससे उनके ही विधायक नाराज हो गए। अब वे इस्तीफा देने वाले विधायकों को बिकाऊ कह रहे हैं। बिकाऊ कहने के बाद एक भी सबूत नहीं दिखा पाए और यह जनप्रतिनिधि का अपमान है। एक भी विधायक नहीं बिका और वोट को नोट से तोलना गलत है।

2018 में गलत टिकट देने से हारे :

एक सवाल के जबाव में उन्होंने कहा कि 2018 में भाजपा ने कुछ टिकट गलत दिए, जिसकी वजह से कांग्रेस से पांच सीटें कम रह गईं, लेकिन जब उनसे जयभान सिंह पवैया, रुस्तम सिंह और नारायण सिंह के बारे में पूछा गया कि क्या इन्हें भी टिकट देकर पार्टी ने गलती की तो वे टाल गए।

साइकिल से चलते थे नरेंद्र, आज केंद्रीय मंत्री :

झा ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता आधारित दल है। नरेंद्र सिंह तोमर साइकिल से चलते थे और आज केंद्रीय मंत्री हैं। यह सिर्फ भाजपा में ही संंभव है। मैं खुद 17 वर्ष तक रा'यसभा सदस्य से लेकर प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर पदाधिकारी रहा, लेकिन अगर आज पार्टी मुझे गेट पर पहरेदारी सौंपे तो मैं करने को तैयार हूं, जबकि कांग्रेस में यह कल्पना भी नहीं की जा सकती है।

कमलनाथ ने कांग्रेस को डुबोया :

उपचुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि कांग्रेस का संगठन खत्म हो गया है और सभी बड़े नेता उपचुनाव में प्रचार से गायब हैं। इस समय देश में कांग्रेस का संगठन खत्म हो चुका है और उपचुनाव के प्रचार में कांग्रेस के बड़े नेता गायब हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने देश में और उनके बड़े भाई कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस को डुबो दिया और 10 नवंबर को उपचुनाव का परिणाम आते ही कमलनाथ की राजनीतिक पारी का अंत हो जाएगा। इस मौके पर पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी, संभागीय मीडिया प्रभारी पवन कुमार सेन और नीरू ज्ञानी भी उपस्थित थीं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co