Raj Express
www.rajexpress.co
अनूपपुर जैतहरी जनपद
अनूपपुर जैतहरी जनपद|Shrisitaram Patel
मध्य प्रदेश

अनूपपुर: जैतहरी जनपद की ग्राम पंचायत विवाद के चलते सुर्खियों में

अनूपपुर, मध्यप्रदेश: लाखों के भ्रष्टाचार से जिपं CEO व कलेक्टर ने आंखें मूंदी। इतना ही नहीं 6 माह में पंचायत के 4 सचिव बदले। जनपद CEO के पत्र को जिपं सीईओ द्वारा रद्दी में डालने का मामला सामने आया।

Shrisitaram Patel

राज एक्सप्रेस। अनूपपुर जिले में विवादों के लिए जनि जाने वाली पंचायतों में सुमार जैतहरी जनपद एक बार फिर विवादों के लिए चर्चा में है। यहां की ग्राम पंचायत बरगवां जिला पंचायत के CEO सरोधन सिंह के नये आदेश जारी होने के बाद से ही ये विवादों के लिए चर्चा में है।

पिपरिया और बरगवां ग्राम पंचायत का प्रभार :

CEO सरोधन सिंह ने अपने विभागीय पत्र क्रमांक-3063 दिनांक-04 सितम्बर 2019 के माध्यम से छक्केलाल राठौर को ग्राम पंचायत पिपरिया और ग्राम पंचायत बरगवां का अतिरिक्त प्रभार सोप दिया है। जो, जैतहरी जनपद के ग्राम औढ़ेरा के सचिव भी रह चुके है। मजे की बात यह है कि, छक्केलाल राठौर को यह प्रभार जिस महिला की सिफरिश पर दिया गया है वह स्वयं बहुत बड़ी भ्रष्टाचारी सरपंच है और एक भाजपा नेत्री है। जिन भ्रष्टाचारी महिला सरपंच की शिफारिश पर यह प्रभार दिया गया है। उनके खिलाफ 20 अगस्त को ही जनपद जैतहरी के सीईओ इमरान सिद्दीकी ने क्रमांक-1574 के माध्यम से जिला पंचायत सीईओ को एक विभागीय पत्र लिखा था।