ग्वालियर : निगम अफसरों का शहर के भूमाफियों से गठजोड़
निगम अफसरों का शहर के भूमाफियों से गठजोड़Social Media

ग्वालियर : निगम अफसरों का शहर के भूमाफियों से गठजोड़

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने अधिकारियों पर लगाएं गंभीर आरोप। विजय डॉक्यूमेंट बनाकर दिए विकास कार्यों के सुझाव।

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। नगर निगम अफसरों का शहर के भूमाफियों से गठजोड़ बना हुआ है। यह आरोप किसी विपक्षी दल ने नहीं बल्कि भाजपा नेता एवं पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने लगाया है। उनका कहना है कि नगर निगम एवं जिला प्रशासन के कुछ अधिकारियों का भूमाफियाओं के साथ गठजोड़ बना हुआ है जिसके कारण अरबों रुपये की बेशकीमती भूमि पर भूमाफिया काबिज है।

उन्होंने कहा कि हुरावली सचिन तेंदुलकर मार्ग स्थित 24 बीघा शासकीय भूमि जिसकी कीमत अरबों रुपये है। नगर निगम 3 बार न्यायालय में केस जीत चुकी हैं इसके बावजूद आज भी निगम अधिकारियों एवं भू-माफियाओं की सांठ-गांठ के कारण भू-माफियाओं का कब्जा है। इस भूमि पर स्पोटर्स कॉम्पलेक्स एवं खेल मैदान प्रस्तावित है। इस कार्य को ग्वालियर के विजन डाक्यूमेंट में शामिल किया जाए। प्रशासन द्वारा विजन डाक्यूमेंट का प्रारुप तैयार किया जा रहा है। इस संदर्भ में पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने कलेक्टर को पत्र लिखकर मुख्यमंत्री को 15 सुझाव दिए हैं, जिसमें उपरोक्त सुझाव के साथ 14 अन्य सुझाव भी दिए गए हैं।

ये दिए सुझाव :

  • शहर में आवसीय एवं कमर्शियल प्रोजेक्ट विकसित किए जाएं।

  • शहर का व्यापारिक दबाब जयेन्द्रगंज, लोहिया बाजार, दाल बाजार, नया बाजार, सराफा बाजार, महाराज बाडा, नई सड़क पर केन्द्रित है। इस दबाब को कम करने के लिए थाटीपुर क्षेत्र की 30 हेक्टेयर भूमि पर उपयोग किया जाए।

  • गोले का मंदिर स्थित मार्क हॉस्पीटल की शासकीय भूमि पर अपोलो, गंगाराम, मेदांता, मैक्स जैसे हॉस्पिटल खोले जाएं।

  • यातायात सुगत करने मुरार नदी पर हुरावली हाईवे से लेकर काल्पी ब्रिज होते हुए सूर्य मंदिर पिंटो पार्क तिराहा तक एवं जडेरुआ बांध होते हुए ग्राम बैहटा हाईवे तक फ्लाई ओवर ब्रिज का निर्माण किया जाए।

  • थाटीपुर डिस्पेंसरी का उन्नयन कर 50 बेड का हॉस्पिटल बनाया जाए।

  • जिला चिकित्सालय का उन्नयन कर 300 बेड तक किया जाए।

  • वीआईपी रेस्ट हाउस मुरार के बगल की लगभग 10 बीघा शासकीय भूमि भू माफिया काबिज हैं। इन्हें हटाकर मुरार थाना भवन एवं पार्क बनाएं।

  • दूध डेयरियों को डोंगरपुर एवं सिरोल क्षेत्र में ग्वाला नगर बसाएं।

  • यातायात बेहतर करने स्टेट टाइम की छोटी रेलवे लाईन पर नई प्लानिंग बनाकर मेट्रो रेल चलाई जाए।

  • शहर का ड्रेनेज सिस्टम सुधारने नई योजना बनाई जाए ताकि बारिश में सड़कें न टूटें।

  • यातायात में अवरोधक बन रहे बिजली के खम्बों को शिफ्ट किया जाए।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co