कालेजों में प्रवेश का आंकड़ा घटा, पारंपरिक कोर्सों में विद्यार्थियों का रूझान कम
कालेजों में प्रवेश का आंकड़ा घटासांकेतिक चित्र

कालेजों में प्रवेश का आंकड़ा घटा, पारंपरिक कोर्सों में विद्यार्थियों का रूझान कम

उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश में इस साल प्रवेश बढ़ाने कि लिए हर संभव प्रयास किए थे लेकिन प्रवेश के दो राउण्ड के बाद सीएलसी राउण्ड का आज अंतिम दिन है और प्रवेश की स्थिति अच्छी नहीं है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश में इस साल प्रवेश बढ़ाने कि लिए हर संभव प्रयास किए थे लेकिन प्रवेश के दो राउण्ड के बाद सीएलसी राउण्ड का आज अंतिम दिन है और प्रवेश की स्थिति अच्छी नहीं है। इस साल यूजी-पीजी में अब तक कुल 4 लाख प्रवेश भी नहीं हुए हैं। जबकि इस साल 12वीं का रिजल्ट अच्छा आने से पारंपरिक कोर्सों में प्रवेश बढऩे का अनुमान था। इस साल प्रदेश में सभी बोर्ड के 12वीं में करीब 7 लाख विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए थे। प्रवेश से पहले मंत्री डॉ. मोहन यादव ने सकल नामांकन अनुपात बढ़ाने की बात कही थी। मंत्री ने इसके लिए कुलपतियों और प्राचार्यों से सुझाव भी लिए थे लेकिन प्रवेश की स्थिति को देखते हुए विभाग की सारी कोशिशें और इंतजाम नाकाफी सिद्ध हुए हैं। पिछले साल लगभग 5.30 लाख प्रवेश हुए थे, वहीं इस साल इस आंकड़े को छूने की उम्मीद कम ही है।

प्रदेश के 1301 निजी और सरकारी कॉलेजों में यूजी-पीजी की करीब 12 लाख सीटों पर दाखिले की प्रक्रिया जारी है। यूजी में दोनों राउंड में करीब 10 लाख सीटों में से एक लाख 61 हजार विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है, जबकि साढ़े आठ लाख सीटें खाली हैं। वहीं पीजी की 2.34 लाख सीटों में से लगभग 78 हजार सीटें ही भरी हैं। यानी इसमें करीब डेढ़ लाख सीटें खाली हैं। ऐसे में यूजी व पीजी की 10.30 लाख खाली सीटों के लिए कालेज लेवल काउंसिलिंग (सीएलसी) राउण्ड का गुरुवार को अंतिम दिन है। प्रवेश के अब तक के आंकड़ों के अनुसार यूजी की लगभग सवा सात लाख से ज्यादा तो पीजी की 1 लाख 18 हजार सीटें रिक्त हैं। यूजी-पीजी में कुल मिलाकर 4 लाख सीटें भी नहीं भरी हैं। जबकि सीएलसी राउण्ड में मनपसंद कालेज मिलने से प्रवेश बढ़ने का अनुमान था।

अगले दस दिन प्राचार्य देंगे प्रवेश :

इस प्रक्रिया के बाद 1 अक्टूबर से अगले दस दिन की प्रवेश प्रक्रिया कालेजों में उपलब्ध सीट और आवेदनों के आधार पर प्राचार्य करेंगे। इस दौरान प्राचार्य प्रति दिन आवेदनों को देखते हुए मेरिट के अनुसार प्रवेश दे सकेंगे। प्रवेश देने के बाद प्राचार्य विभाग के पोर्टल पर विद्यार्थियों की सूची अपडेट करेंगे। एक से दस अक्टूबर के बीच दो-दो शनिवार और रविवार पड़ेंगे। अवकाश के बावजूद विभाग ने निर्देश पर शानिवार और रविवार को भी कालेज खुलेंगे और प्रवेश प्रक्रिया जारी रहेगी। सिर्फ दो अक्टूबर शनिवार को गांधी जयंती होने के कारण अवकाश रहेगा।

अब तक प्रवेश की स्थिति :

यूजी के लिए बुधवार देर शाम तक सीएलसी राउंड में यूजी में करीब 82 हजार छात्र-छात्राओं के पास प्रवेश के लिए आज का समय बचा हुआ है। वे आज फीस जमा कर प्रवेश नहीं लेते हैं तो प्रवेश से वंचित रह सकते हैं। यूजी में एक लाख 1 हजार 193 छात्राओं और 81 हजार 457 छात्रों ने च्वाइस फिलिंग की थी। कुल एक लाख 82 हजार 640 में से एक लाख 1 हजार विद्यार्थियोंं ने प्रवेश शुल्क का भुगतान कर प्रवेश सुनिश्चित कर लिया है। प्रवेश लेने वालों में छात्राओं की अपेक्षा छात्रों की संख्या अधिक है। जहां तक पीजी की बात है तो 89 हजार 495 विद्यार्थियों ने अपने पसंद के कालेज का विकल्प दिया है। इसमें से करीब 37 हजार ने प्रवेश शुल्क जमा कर दिया है। पीजी में प्रवेश के लिए बाकी बचे करीब 42 हजार विद्यार्थियों को भी 30 सितंबर तक फीस जमा करनी हैै।

एनसीईटी के पाठ्यक्रमों में प्रवेश :

एनसीईटी के बीएड सहित आठ कोर्स में 853 कॉलेजों में एडमिशन के लिए तीसरे चरण की काउंसलिंग प्रक्रिया चल रही है। जिसमें कुल उपलब्ध 36 हजार 580 सीटों पर प्रवेश के लिए विभाग ने 31 हजार 673 सीटें आवंटित की थीं। वहीं 44 हजार 292 आवेदनों का सत्यापन हुआ है। जबकि प्रवेश लेने आलों की संख्या महज साढ़े दस हजार तक पहुंची है। शेष विद्यार्थियों को 30 सितंबर तक प्रवेश शुल्क का भुगतान कर प्रवेश सुनिश्चित करना होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co