कोयला स्टॉक में जरूर कम है, लेकिन ब्लैक आउट नहीं होने देंगे : प्रद्युम्न सिंह तोमर
कोयला स्टॉक में जरूर कम है, लेकिन ब्लैक आउट नहीं होने देगेंSocial Media

कोयला स्टॉक में जरूर कम है, लेकिन ब्लैक आउट नहीं होने देंगे : प्रद्युम्न सिंह तोमर

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने यह बात तो स्वीकारी कि प्रदेश में कोयले का स्टॉक तो कम है, लेकिन इसके बाद भी हम बिजली संकट को नहीं आने देगें।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। देश के कई राज्यों की तरह मध्यप्रदेश में भी कोयला स्टॉक कम होने से ब्लैक आउट का अंदेशा बताया जा रहा है। इसको लेकर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने यह बात तो स्वीकारी कि प्रदेश में कोयले का स्टॉक तो कम है, लेकिन इसके बाद भी हम बिजली संकट को नहीं आने देगें। इसके लिए हम एवं हमारे विभाग के सभी कर्मचारी कड़ी मेहनत कर रहे है और जल्द ही खदाने से कोयले की ढुलाई भी कराकर लाने का प्रयास कर रहे हैं।

ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि खदानों में पर्याप्त कोयला है, लेकिन उसको वहां से लेकर आने का काम तो राज्य सरकारों को ही करना है, ऐसे में हम वहां से कोयला लाने का प्रयास कर रहे हैं। कोयले के लिए टेण्डर भी बुलाए जाएंगे साथ ही मॉनीटरिंग करेगें तो संकट नहीं आएगा। ऊर्जा मंत्री ने यह बात जरूर स्वीकारी की प्रदेश के कुछ प्लॉटों में 3 से 7 दिन का कोयला स्टॉक ही बचा है, लेकिन इससे बिजली संकट आएगा यह बात कहना गलत होगी क्योंकि हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री व मैं स्वयं इस संकट से निपटने के लिए लगे हुए है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह ने बताया कि खदानों में पर्याप्त मात्रा में कोयला है, हां बारिश के मौसम में जरूर खदानों से कोयला कम निकलता है, क्योंकि खदानो में पानी भर जाता है। अब हमें खदानो से कोयला उठाने के लिए अपनी ढुलाई की कैपिसिटी बढ़ानी होगी, क्योंकि केन्द्र सरकार तो ढुलाई करके राज्यों के पास कोयला भेजेगी नहीं, राज्यों को ही यह काम करना होगा इसके लिए हम प्रयासरत है और मां जगदम्बे की कृपा रही तो बिजली को कोई संकट नहीं आएंगा। ऊर्जा मंत्री का कहना है कि संकट कोई भी हो, लेकिन अगर सकारात्मक विचार रखेगें तो हर संकट से उबरा जा सकता है और हमारे विभाग के अधिकारी से लेकर निचले स्तर तक के कर्मचारी जिस तरह से मेहनत कर रहे है उसके चलते प्रदेश में ब्लैक आउट जैसी स्थिति नहीं आएंगी, यह मैं वादे के साथ कह सकता हूं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.