बच्चों के टीकाकरण में 15 दिन से ज्यादा की देरी नुकसानदायक
बच्चों के टीकाकरण में 15 दिन से ज्यादा की देरी नुकसानदायक|सांकेतिक चित्र
मध्य प्रदेश

बच्चों के टीकाकरण में 15 दिन से ज्यादा की देरी हो सकती है नुकसानदायक

इंदौर, मध्य प्रदेश: कोरोना काल में बच्चों के टीकाकरण को लेकर वेबीनार का आयोजन हुआ, जिसमें टीकाकरण को लेकर महत्वपूर्ण जानकारियां दी गई और सभी की जिज्ञासाओं का समाधान किया गया।

Mumtaz Khan

इंदौर, मध्य प्रदेश। कोरोनाकाल में बच्चों के टीकाकरण को लेकरद्वारा एक वेबीनार का आयोजन किया गया। इस वेबीनार में जाने-माने बाल रोग विशेषज्ञ ने बताया कि कोरोना के इस दौर में बच्चों के टीकाकरण को लेकर क्या सावधानी बरतनी चाहिए। मदरहुड हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर अमित वैद्य ने बताया कि कोरोना में उन परिवारों के सामने संशय की स्थिति पैदा हो गई है जिनमें नवजात बच्चे हैं। बच्चों का टीकाकरण एक समय पर होने वाली प्रक्रिया है लेकिन कोरोना के चक्कर में टीकाकरण नहीं हो पा रहा है। इसी को लेकर इस वेबीनार का आयोजन किया गया।

वेबीनार में डॉ. अनुराग जैन ने संबोधित करते हुए बताया कि बच्चों के टीकाकरण को लेकर ज्यादा से ज्यादा 15 दिन की देरी की जा सकती है, इससे ज्यादा नहीं इससे ज्यादा देरी की जाती है तो बच्चों को कई सारी निमोनिया होने का खतरा हो सकता है। पोलियो, मीजल्स जैसी तमाम ऐसीं बीमारियां हैं। जिसमें देरी करने से बच्चों को बीमारी होने का खतरा हो सकता है। इसलिए नवजात बच्चों के माता-पिता को चाहिए कि वह समय पर टीकाकरण केंद्र में बच्चों का टीकाकरण कराएं जहां संपूर्ण सावधानी के साथ टीकाकरण हो रहा है।

ज्यादातर केंद्रों पर एक अलग से कक्ष तैयार किया गया है जहां पूरे कक्ष को सेनेटाइज़ किया गया है तथा कोविड-19 के सारे नियमों का पालन हो रहा है। ऐसे में ज्यादा इंतजार भी नहीं करना पड़ेगा और भीड़ भी नहीं मिलेगी । उन्होंने बताया कि कोरोना का सबसे ज्यादा खतरा छोटे बच्चों और बुजुर्गों को ही होता है ऐसे में टीकाकरण केंद्र को ले जाते समय खासतौर पर सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। टीकाकरण में देरी से बच्चों की इम्युनिटी प्रभावित हो सकती है इसका सीधा असर बच्चों के शरीर पर हो सकता है और वह बीमार पड़ सकते हैं इसलिए माता-पिता को चाहिए कि वह समय पर बच्चों का टीकाकरण कराएं। इस वेबिनार के दौरान बड़ी संख्या में पालक मौजूद थे जिन्होंने बच्चों के टीकाकरण को लेकर प्रश्नपूछ कर अपनी जिज्ञासाओं को शांत किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co