Sausar : जाम सांवली मंदिर में प्रबंधन बना भक्त और भगवान के बीच का रोड़ा
श्रद्धालुओं को दर्शन करने के लिए, कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।सुनील सोनी

Sausar : जाम सांवली मंदिर में प्रबंधन बना भक्त और भगवान के बीच का रोड़ा

हाल ही में चमत्कारी हनुमान मंदिर जामसावली के द्वार भक्तों के दर्शनों के लिए तो खुल गए हैं, कोरोना संक्रमण के चलते विगत मार्च माह से चमत्कारी हनुमान मंदिर जाम सांवली के पट बंद कर दिए गए थे।

सौंसर, मध्य प्रदेश। हाल ही में चमत्कारी हनुमान मंदिर जाम सांवली के द्वार भक्तों के दर्शनों के लिए खुल गए हैं। कोरोना संक्रमण के चलते विगत मार्च माह से चमत्कारी हनुमान मंदिर जाम सावली के पट बंद कर दिए गए थे, भक्तों को मंदिर के बाहर से ही श्री मूर्ति के दर्शन करने पड़ रहे थे, एक और जहां मंदिरों के पट खुलने के चलते चमत्कारी हनुमान मंदिर जाम सांवली में महाराष्ट्र के अलावा छिंदवाड़ा बैतूल बालाघाट सिवनी बैतूल आदि से बड़ी संख्या में भक्तगण श्री मूर्ति के दर्शन करने के लिए पहुंच रहे हैं।

परंतु यहां पर पदस्थ कर्मचारियों की लापरवाही और मंदिर प्रबंधन में बैठे हुए पदाधिकारियों की लचीली कार्यप्रणाली चलते दूरदराज से आने वाले श्रद्धालुओं को दर्शन करने के लिए बड़ी कठिनाई और परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, मंदिर खुलने के बाद में भक्तों के द्वारा निरंतर मंदिर प्रबंधन पर चेहरा देखकर मंदिर प्रवेश में एंट्री देने को लेकर भी आरोप लगाए जा रहे हैं, वहीं दूसरी मंदिर निर्माण, मंदिर समिति चुनाव, सामग्री खरीदी, सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी कई बातें सामने आ रही है।

जाम सांवली के हनुमानजी के खुल गए पट

कोरोना काल में 5 माह से बंद जाम सांवली मंदिर के पट भक्तों के दर्शन के लिए खुल गए हैं, विगत मार्च माह से मंदिर बंद होने के चलते भगवान श्री मूर्ति के दर्शन करने के लिए भक्तों को बहुत कठिनाई का सामना करना पड़ता था कई बार तो ऐसा होता था कि महाराष्ट्र और अन्य जिलों से आने वाले भक्तों को दूर से ही श्री चरणों में नमन करते हुए आगे बढ़ जाना पड़ता था, नई व्यवस्था के अंतर्गत वक्त अब मंदिर पहुंचकर दूर से श्री मूर्ति के सीधे दर्शन कर पाएंगे, वहीं भक्तों के द्वारा किये जाने वाली पूजा अर्चना और अभिषेक को फिलहाल बंद रखा गया है, मंदिर कमेटी से मिली जानकारी के अनुसार, भक्तगण नवनिर्मित मंदिर हाल में पहुंचकर श्री मूर्ति के दर्शन करेंगे, दर्शन स्थल पर जाली लगाई गई है, इसके अलावा मंदिर में भीड़ नहीं बड़े और कोरोना गाइड लाइन का पालन हो इसको लेकर भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

चेहरा देखकर देते हैं भक्तों को एंट्री

कहते हैं ईश्वर कभी अपने भक्तों में भेदभाव नहीं करता उसके लिए रंक को राजा एक समान होता है, परंतु वर्तमान में चमत्कारिक हनुमान मंदिर में आने वाले भक्तों के साथ में यहां पर पदस्थ कर्मचारी एवं मंदिर पदाधिकारियों के द्वारा भेदभाव किया जा रहा है, मंदिर परिसर के अंदर प्रवेश करने के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर लगाए गए नाको पर चेहरा देखकर लोगों को एंट्री दी जा रही है, यदि आप सुखी संपन्न परिवार या फिर राजनीतिक रसूख रखते हैं, या कोई बड़े अधिकारियों के परिवार से जुड़े हैं तो आपको सम्मान के साथ तुरंत एंट्री मिल जाएगी।

परंतु यदि कोई सामान्य परिवार से संबंध रखते हो या कोई पहचान नहीं है, तो आपके साथ में तरह-तरह के सवाल और अभद्रता पूर्ण व्यवहार करते हुए एंट्री के लिए सौ बहाने बताए जाते हैं, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में दूर से श्री मूर्ति के दर्शन करने को लेकर मंदिर खोला गया है, परंतु यहां पर कार्य करने वाले पदाधिकारी और कर्मचारी से आपकी सेटिंग है,तो आपको सीधे श्री मूर्ति के पास तक दर्शन करने दिए जा रहे है, जिसके कारण आये दिन यहां विवाद की स्थितियां भी उत्पन्न हो रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co