डॉ. सचिन चित्तावर
डॉ. सचिन चित्तावरSocial Media

डायबिटीज रोगी भी खा सकते हैं मिठाई और चावल: डॉ. सचिन चित्तावर

भोपाल, मध्यप्रदेश। यदि आपकी शुगर कंट्रोल में है और आप योग्य चिकित्सक के मार्गदर्शन में इलाज करा रहे हैं तो आप निश्चिंत होकर संतुलित मात्रा में अपनी पसंद की मिठाई और चावल का लुत्फ उठा सकते हैं।

राज एक्सप्रेस। जी हां, यदि आपकी शुगर कंट्रोल में है और आप योग्य चिकित्सक के मार्गदर्शन में इलाज करा रहे हैं तो आप निश्चिंत होकर संतुलित मात्रा में अपनी पसंद की मिठाई और चावल का लुत्फ उठा सकते हैं। डायबिटीज कोई हौवा नहीं है। इससे डरने की नहीं बल्कि इसे समझने की जरूरत है। समझ की कमी के कारण कुछ संस्थाएं लंबे समय से आपकी जेब ढीली करने के लिए इस्तेमाल करती आ रही हैं। इसलिए जानकार बनिए, स्वस्थ रहिए।

यह बात आज वरिष्ठ हार्मोन एवं डायबिटीज रोग विशेषज्ञ डॉ. सचिन चित्तावर ने एक पत्रकार वार्ता में कही। पत्रकार वार्ता का आयोजन विश्व मधुमेह दिवस व इंसुलिन की खोज के 100 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में मनाये जा रहे मधुमेह जागरूकता सप्ताह के बारे में जानकारी देना था। उल्लेखनीय है कि कनाडाई सर्जन सर फ्रेडरिक जी बांटिंग, चार्ल्स एच बेस्ट एवं जेजेआर मेकलॉड ने 1921 में इंसुलिन की खोज की थी व 1922 में इसका प्रयोग एक डायबिटीज पीड़ित व्यक्ति पर किया गया था।

डॉ. चित्तावर ने कहा कि डायबिटीज का रिवर्सल तो नहीं किंतु रेमीसन संभव है। रेमीसन अर्थात बिना दवाओं के सेवन के आपके रक्त में शर्करा का स्तर मधुमेह की सीमा से नीचे होना है। डॉक्टरी सलाह, भोजन व लाइफस्टाइल में बदलाव करके आप इस अवस्था को प्राप्त कर सकते हैं और डायबिटीज के साथ अच्छा जीवन जी सकते हैं। यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि यह बीमारी चुपके से शरीर में प्रवेश करती है इसलिए इसकी मौजूदगी का पता लगाने के लिए वर्ष में एक बार आंख व किडनी जैसे अंगों की जांचें अवश्य कराना चाहिए। और ये जांचें विशिष्ट होनी चाहिए न कि पैकेज वाली। डायबिटीज मरीजों को यह सोचकर दवाएं खाना कम अथवा बंद नहीं करना चाहिए कि इससे उनकी किडनी अथवा लीवर पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। यह सच नहीं है।

उन्होंने यह भी कहा कि डायबिटीज के 100 में से 80 मरीजों को फैटी लिवर होने की संभावना रहती है। ज्यादा समय तक अनदेखी करने पर यह बीमारी कार्सिनोमा कैंसर, किडनी, आंख, डिप्रेशन और हृदय संबंधी समस्याओं का कारण बन सकती है। सजग रहकर इन समस्याओं से बचा जा सकता है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन का ध्येयवाक्य डायबिटीज के बारे में आमजन को उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करना है तथा इसके लिए उसने कुछ निशुल्क कोर्स तैयार किये हैं जिन्हें https://worlddiabetesday.org/about/understandingdiabetes/ से प्राप्त किया जा सकता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co