नागदा जं. : डीजल-पेट्रोल पंप संचालक दे रहे हैं डीजल-पेट्रोल कम
नागदा जं., मध्य प्रदेश : शिकायत के बाद भी विभाग के अधिकारी दे रहे हैं ऐसे लोगों को पनाह।
नागदा जं. : डीजल-पेट्रोल पंप संचालक दे रहे हैं डीजल-पेट्रोल कम
डीजल-पेट्रोल पंप संचालक दे रहे है डीजल-पेट्रोल कमSocial Media

नागदा जं., मध्य प्रदेश। विभागीय अधिकारी की अनदेखी के चलते कुछ पंपों पर डीजल-पेट्रोल कम देने की शिकायत हमेशा बनी हुई है। शिकायत के बाद भी नापतौल अधिकारी द्वारा कार्यवाही करने आने के पूर्व पंप संचालकों को सूचना दे देते हैं। ऐसे पंप संचालक पंप मशीनों में लगी चिप हटाकर मशीनें ठीक कर लेते हैं। ऐसे में आम उपभोक्ताओं को आर्थिक शोषण हो रहा है।

वैसे तो कई पेट्रोल-डीजल पंपों पर निर्धारित मात्रा से कम देने के आरोप लगना आम बात हो गई है। नापतौल विभाग के अधिकारी भी अब इस और गंभीरता से ध्यान भी नहीं देने की बात सामने आई है। शहर व आसपास क्षेत्र के पेट्रोल-डीजल पंप के कुछ संचालकों द्वारा डीजल-पेट्रोल कम देने की शिकायत होने के बाद भी विभाग के अधिकारी द्वारा कार्यवाही नहीं की जाने के आरोप पूर्व कांग्रेस पार्षद जगदीश मिमरोट ने आरोप लगाते हुए कहा कि दो पहिया वाहनों में 2-4 लीटर पेट्रोल भराने वालों को तो कुछ पेट्रोल पंप संचालको द्वारा 100 से 150 ग्राम कम देते हैं। इसकी शिकायत संबंधित विभाग के अधिकारी को भी की गई। कुछ सत्तापक्ष नेताओं के खास होने और कुछ कांग्रेसी होने के बाद भी सत्ता के साथ हो गए तो अधिकारी भी कार्यवाही के लिए हाथ नहीं डाल पा रहे हैं। भाजपा के जिलामंत्री राकेश यादव ने आरोप लगाए कि शहर ही नहीं उन्हेल के एक पेट्रोल पंप पर भी ऐसा ही हो रहा है। चार पहिया वाहन का टैंक कंपनी से ही 50 लीटर का था। जब उसे फुल कराया तो 52 लीटर बताया गया। बहस के बाद भी पेट्रोल पंप संचालक ने इस बात को नहीं माना। ऐसे ही सुरेशसिंह ने बताया कि शहर में कई पेट्रोल पंपो पर एक लीटर में 50-100 ग्राम पेट्रोल कम दिया जा रहा है। इसकी शिकायत नापतौल अधिकारी दुबे व अनुविभागीय अधिकारी को भी की गई। उज्जैन से अधिकारी दुबे ने आकर एक-दो बार जांच भी की। पंप सूत्रों के अनुसार अधिकारी ने आने के पूर्व ही सभी पेट्रोल पंप संचालकों को सूचना दे दी तो अनियमितता मिलने का सवाल ही नहीं उठता।

इस संबंध में नापतोल अधिकारी संयम दुबे से चर्चा की तो उन्होंने कहा कि "आप शिकायत कर दो तो जांच कर लूंगा। आपको जो छापना है वह छापे। जांच तो मैं मेंरे हिसाब से ही करूंगा।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co