दिग्विजय सिंह ने दी ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनौती
दिग्विजय सिंह ने दी ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनौती|Social Media
मध्य प्रदेश

भोपाल : दिग्विजय सिंह ने दी ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनौती

भोपाल, मध्य प्रदेश। दिग्विजय सिंह ने भाजपा नेता और ज्योतिरादित्य सिंधिया के कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले बयान पर पलटवार किया है।

Krishnakant Bhargava

भोपाल, मध्य प्रदेश। पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले बयान पर पलटवार किया है और उन्हें पिछली सरकार के भ्रष्टाचार उजागर करने की चुनौती दी है।

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय ने ट्वीटर के माध्यम से सिंधिया के लिए लिखा है कि सिंधिया जी पिछली सरकार में भ्रष्टाचार हुआ, उन्हें खुली चुनौती है, नीचे विभागों का एक भ्रष्टाचार बताएं ,वर्ना जनता से क्षमा मांगे। दिग्विजय सिंह ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, महिला एवं बाल विकास, परिवहन, श्रम, स्कूली शिक्षा, राजस्व, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति में हुए एक भ्रष्टाचार का ब्यौरा मांगा है। खास बात ये है कि दिग्विजय सिंह ने उन विभागों के भ्रष्टाचार की बात की है जो पिछली कमलनाथ सरकार में सिंधिया समर्थक मंत्रियों के पास थे। बता दें कि कमलनाथ सरकार में गोविंद सिंह के पास परिवहन, प्रभुराम चौधरी के पास शिक्षा, इमरती देवी के पास महिला-बाल विकास, प्रदुम्न सिंह के पास खाद्य आपूर्ति जैसे विभाग थे।

यह पहला मौका नहीं है जब दिग्विजय ने सिंधिया पर हमला बोला हो। इसके पहले भी दिग्विजय कई बार सिंधिया को आड़े हाथों ले चुके हैं। हाल ही में दिग्विजय ने ट्वीट कर लिखा था कि महाराज भाजपा के कृषि मंत्री कमल पटेल कहते हैं कि किसानों का क र्ज माफ करना पाप है। क्या आप उनके बयान से सहमत हैं? यदि शिवराज सिंह चौहान कांग्रेस सरकार ने किसानों का क र्ज माफ करने की जो प्रक्रिया शुरू की थी वह उसे पूरा नहीं करते हैं तो क्या आप मप्र सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे?

क्या है मामला :

बता दें कि बीते दिनों भाजपा की वर्चुअल रैली में सिंधिया ने आरोप लगाते हुए कहा था कि 15 महीने की कमल नाथ सरकार अन्याय, अत्याचार और भ्रष्टाचार की सरकार थी। कमलनाथ सरकार ने वल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया था। जब यह 15 महीने सत्ता में थे तब वल्लभ भवन से भ्रष्टाचार की सरकार चल रही थी। वहां सांसद,विधायक नहीं जा पाते थे और सौदागरों, ठेकेदारों की पहुंच अंदर तक थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co