बीट प्रभारी की शह पर नशे का कारोबार
बीट प्रभारी की शह पर नशे का कारोबार|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

शहडोल : बीट प्रभारी की शह पर नशे का कारोबार

शहडोल, मध्य प्रदेश : पुलिस ने तस्करों के नेटवर्क को भी तोड़ने का काम किया, लेकिन अमलाई थाना क्षेत्र में फिर से नशे का कारोबार फल-फूल रहा है। कप्तान की मुहीम को उपनिरीक्षक लगा रहा बट्टा।

Afsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। कोयलांचल के अमलाई थाना क्षेत्र के 3 नंबर सहित आस-पास के क्षेत्र में नशे का अवैध कारोबार पूरी चरम सीमा पर है, उधर पुलिस अधीक्षक सतेन्द्र शुक्ला पूरे जिले भर से नशे के कारोबार को समाप्त करने की मुहीम चला रहे हैं। 84 से अधिक एनडीपीएस एक्ट की कार्यवाहियां उनके कार्यकाल के दौरान हो चुकी हैं, शायद इससे पहले किसी भी पुलिस कप्तान के रहते नहीं हुई, हजारों क्विंटल गांजे के साथ नशीली कफ सिरप की बड़ी खेप जब्त हुई हैं। पुलिस ने तस्करों के नेटवर्क को भी तोड़ने का काम किया, लेकिन अमलाई थाना क्षेत्र में फिर से नशे का कारोबार फल-फूल रहा है।

बीट प्रभारी का संरक्षण :

बताया गया है कि 3 नंबर और उसके आस-पास के क्षेत्र की बीट उपनिरीक्षक सुंदरलाल तिवारी को दी गई है, पूर्व में सुंदर लाल तिवारी अमलाई थाने में लंबी सेवाएं दे चुके हैं, दोबारा उनकी पदस्थापना अमलाई में होने से अवैध कारोबारियों का एक गिरोह फिर से सक्रिय कराकर गांजे, नशीली दवाईयां और सिरप के साथ ही शराब की पैकारी, सट्टे और जुएं का अवैध कारोबार सुंदरलाल तिवारी के संरक्षण में उनके बीट वाले क्षेत्र में संचालित हो रहा है।

यहां हो रहा नशे का कारोबार :

बीट प्रभारी के क्षेत्र के दायरे में आने वाले 3 नंबर शराब दुकान के पीछे, छोटी अमलाई, बाबूलाईन के पीछे सहित अन्य स्थानों पर गांजे का व्यापार होने के साथ ही आसानी से नशीली दवाईयां और सिरप धड़ल्ले से बिक रहा है। शराब की पैकारी तो, इन क्षेत्रों में आम हो चुकी है। युवा पीढ़ी को नशे के कारोबारी वर्दीधारी के संरक्षण में खुलेआम नशा परोस रहे हैं, वहीं सवाल यह भी खड़ा होता है कि गांजे की खेप 3 नंबर और उसके आस-पास के क्षेत्र में कहां से पहुंच रही है, बीते माह कथित वर्दीधारी ने अमराडंडी में जुएं की फड़ के संचालन की अनुमति भी दे दी थी, वहीं धारा 353 के एक मामले में 50 हजार की रिश्वत का मामला भी चर्चा में हैं, आरोपी को वर्दीधारी ने फरार करा दिया। ऐसा सूत्रों का दावा है, इस मामले में अगर जांच हुई तो, सच सामने आ सकता है।

मुहीम को लगा रहे बट्टा :

सुंदर लाल तिवारी लंबे समय तक अमलाई थाने में पूर्व में पदस्थ रहे हैं, ब्यौहारी से उनका तबादला बीते कई माह पहले अमलाई थाने के लिए कर दिया गया, वहां पहुंचने के बाद फिर से पुरानी टोली को जोड़कर नशे के कारोबार के अलावा हर अवैध कारोबार अपनी संरक्षण में चलवाया जा रहा है, सूत्र तो यह भी बताते हैं कि अमलाई थाना क्षेत्र में कथित उपनिरीक्षक ने सारे अवैध कार्य करने की छूट देने के लिए बदमाशों को गांधी के बल पर खुली छूट दे दी। कुल मिलाकर जिले में नशे के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान पर वर्दी की साख पर भी कथित उपनिरीक्षक बट्टा लगाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।

इनका कहना है :

अगर ऐसे मामले सामने आ रहे हैं तो, जांच कराकर कार्यवाही की जायेगी, जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्यवाही होगी।

सतेन्द्र कुमार शुक्ला, पुलिस अधीक्षक, शहडोल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co