ज्योतिरादित्य सिंधिया, मप्र सीएम कमलनाथ
ज्योतिरादित्य सिंधिया, मप्र सीएम कमलनाथ|Social Media
मध्य प्रदेश

मप्र में कांग्रेस सरकार का अंत लगभग तय, 22 विधायकों ने दिया इस्तीफा

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार का अंत होना लगभग तय। ज्योतिरादित्य सिंधिया हो सकते हैं भाजपा में शामिल। जानें इस रिपोर्ट में मप्र की सियासत...

Aditya Shrivastava

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में होली के पर्व के साथ ही राजनीतिक बदलाव आये हैं। प्रदेश की कांग्रेस सरकार का गिरना लगभग तय है। 22 विधायकों ने कमलनाथ का हाथ छोड़ दिया है। साथ ही वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस को इस्तीफे के बाद पार्टी ने भी उन्हें निष्कासित कर दिया है।

कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद ऐसा माना जा रहा है कि, ज्योतिरादित्य सिंधिया आज शाम को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद उनके समर्थक माने जाने वाले 22 विधायकों ने राज्यपाल एवं विधानसभा अध्यक्ष के पास ईमेल पर इस्तीफा भेज दिया है।

वहीं ज्योतिरादित्य सिंधिया थोड़ी देर में बीजेपी मुख्यालय पहुंच सकते हैं। उन्होंने थोड़ी देर पहले बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से उनके घर पर मुलाकात की थी। इसके बाद वह अपने घर वापस चले गए।

इधर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल लाल जी टण्डन को पत्र लिखकर 6 मंत्रियों को बर्खास्त करने की सिफारिश की।

मध्यप्रदेश कांग्रेस का कहना है कि प्रदेश में कमलनाथ की सरकार स्थिर है। यह सरकार अपने पांच साल का कार्यकाल पूर्ण करेगी।

वहीं, भोपाल में बीजेपी नेता नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस के 19 विधायकों का इस्तीफा लेकर स्पीकर के पास पहुंचे हैं। उन्होंने सभी विधायकों का इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को सौंपा। इन विधायकों में 6 मंत्री भी हैं। इस्तीफा देने वाले विधायक गोविंद सिंह राजपूत, तुसली सिलावट, हरदीप सिंह डंग, तेजपाल सिंग जज्जी, ओपीएस भदौरिया, मुन्ना लाल गोयल, प्रदुम्म सिंह तोमर, विजेंद्र सिंह यादव, सुरेश धाकड़ , महेंद्र सिंह सिसोदिया, मंत्री प्रभु राम चौधरी, गिरिराज डंडौडिया, संतराम सरौनिया, रणवीर जाटव, जसंवत जाटव हैं।

आपको बता दें कि, मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं। यहां 2 विधायकों का निधन हो गया है। इस तरह से विधानसभा की मौजूदा सीट 228 हो गई हैं। कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन हासिल था, जिनमें से कांग्रेस के 19 विधायकों ने इस्तीफे दिए हैं। साथ ही एक सपा-बसपा के इस्तीफे मिलाकर 22 विधायकों ने इस्तीफे दे दिए हैं। यानी अब कांग्रेस के पास 99 विधायकों का ही समर्थन रह गया है। जबकि बीजेपी के पास अपने 107 विधायक हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co