राजमाता विजयाराजे सिंधिया की जयंती के अवसर पर ग्वालियर में आयोजित कार्यक्रम

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्म-शताब्दी वर्ष पर ग्वालियर में आयोजित कार्यक्रम में विचार साझा किया, कार्यक्रम प्रदेश के सीएम, तोमर, सिंधिया एवं प्रभात झा उपस्थित।
राजमाता विजयाराजे सिंधिया की जयंती के अवसर पर ग्वालियर में आयोजित कार्यक्रम
ग्वालियर में आयोजित कार्यक्रमPriyanka Yadav-RE

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पर राजमाता विजयाराजे सिंधिया की 100वीं जयंती के अवसर पर उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया है। शिवराज ने किया ट्वीट- आज मध्यप्रदेश के कल्याण और उत्थान के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन होम कर देने वाली श्रद्धेय राजमाता विजयाराजे सिंधिया को उनकी जयंती पर प्रदेश की आठ करोड़ जनता की ओर से चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं। आपके सपनों के मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए हम संकल्पित हैं।

राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्म शताब्दी समारोह का समापन 12 अक्टूबर को उनकी जयंती के अवसर। ग्वालियर में यह कार्यक्रम चेतकपुरी रोड स्थित बंधन गार्डन में आयोजित किया गया है जिसमें प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं पूर्व राज्यसभा सांसद प्रभात झा मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

बता दें कि आज प्रधानमंत्री ने श्रद्धेय राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी के जन्म-शताब्दी वर्ष के अवसर पर आज विशेष स्मारक सिक्के का ई-विमोचन किया। आज राजमाता विजयाराजे सिंधिया जहाँ कहीं भी हैं, हमें अपना आशीर्वाद दे रही हैं और स्नेह दे रही हैं। वे हमारी माँ हैं। यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे उनकी स्मृति में विशेष स्मारक सिक्के का विमोचन करने का अवसर मिला है। भारत को दिशा दिखाने वाली प्रमुख शख्सियतों में से एक हैं राजमाता विजयाराजे।

ग्वालियर में आयोजित कार्यक्रम

शिवराज ने कार्यक्रम में कहा कि श्रद्धेय राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी केवल एक परिवार की नहीं थीं। एक परिवार से निकलकर वो करोड़ों करोड़ जनता के दिलों में उतर गईं और लाखों-लाख कार्यकर्ताओं के हृदय में समा गईं है। आगे कहा कि 1973 में नर्मदा जी में भयानक बाढ़ आई थी, सरकार और उसके मंत्री जनता के बीच नहीं पहुंचे; लेकिन जनता के लिए राहत सामग्री लेकर सबसे पहले राजमाता विजयाराजे सिंधियाजी पहुंचीं, दीन-दुखियों की सेवा के लिए उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन समर्पित कर दिया था श्रद्धेय राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी स्नेहमयी मां थीं, वो ममतामयी मां थीं, वो दयामयी मां थीं, वो वात्सल्यमयी मां थीं।

हम सब आज उनकी जयंती पर उनके चरणों में सादर प्रणाम करते हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा-

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पर राजमाता विजयाराजे सिंधिया की 100वीं जयंती के अवसर पर कहा कि श्रद्धेय राजमाता विजयाराजे सिंधिया का प्रभाव इतना था कि जब 1971 में इंदिरा जी की लहर पूरे देश में थी, उस समय माधवराव जी भी जनसंघ में थे; तब भाजपा के नेताओं-कार्यकर्ताओं और मां-बेटे ने मिलकर मध्यभारत की लोकसभा की 11 की ग्यारह सीटों पर जनसंघ को जीत दिलाई थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co