मां जगदंबा
मां जगदंबा|Priyanka Yadav
मध्य प्रदेश

जगह-जगह विराजी मां जगदंबा-भव्य झांकियों से जगमगाई राजधानी

भोपाल: शक्ति की साधना और आराधना का पर्व नवरात्रि 29 सितंबर यानि आज से शुरू हो गया है। इस बार मॉं दुर्गा हाथी पर बैठकर आई हैं। माता का आगमन हर प्रकार की सिद्धि देने वाला रहेगा।

Priyanka Yadav

Priyanka Yadav

राज एक्सप्रेस। शक्ति की साधना और आराधना का पर्व नवरात्रि 29 सितंबर यानि आज से शुरू हो गया है। माता का आगमन हर प्रकार की सिद्धि देने वाला रहेगा। नौ दिनों तक शहर में उत्सवी माहौल रहेगा और श्रद्धालु माता रानी की भक्ति में लीन रहेंगे। शहर में जगह-जगह आकर्षक झांकियां सजाकर मां दुर्गा की प्रतिमाओं की स्थापना हस्त नक्षत्र में जयकारों के बीच की जाएगी। इसी प्रकार घरों में भी घट स्थापना कर श्रद्धालु मां की आराधना करेंगे और दुर्गा सप्तशती, दुर्गा चालीसा का पाठ कर नौ दिन तक व्रत रखेंगे। शहर के देवी मंदिरों में भी रोशनी से सजाया गया है।

नौ दिनों तक होगी शक्ति की साधन

शक्ति तत्व या है,जो निर्विशेष शुद्ध तत्व संपूर्ण ब्रह्माण्ड का आधार है उसी को पुंस्त्वदृष्टि से चित और स्त्रीत्व को चिति कहते हैं। शुद्ध चेतन और चिति ये एक ही तत्व के दो नाम हैं। माया में प्रतिबिंबित उसी तत्व को जब पुरुष रूप से उपासना की जाती है, तब उसे ईश्वर, विष अथवा भगवान आदि नामों से पुकारते हैं और जब स्त्री रूप से उपासना करते हैं तो उसी को ईश्वरी, दुर्गा अथवा भगवती कहते हैं। शति की उपासना प्राय: सिद्धियों की प्राप्ति के लिए की जाती है। तंत्र शास्त्र का मुख्य उद्देश्य सिद्धि लाभ ही है। आसुरी प्रकृति के पुरुष मद्य मांस आदि से पूजते हैं, जिससे उन्हें मारण उच्चाटन आदि आसुरी सिद्धियां प्राप्त होती हैं।

Raj Express
www.rajexpress.co