Exclusive : अय्याशी का अड्डा बने खंडहर और ब्रिज के बोगदे!
बीते साल इसी खंडहर में तीन साल की मासूम का बलात्कार के बाद कर दी थी हत्याAnkit Nim

Exclusive : अय्याशी का अड्डा बने खंडहर और ब्रिज के बोगदे!

महू, मध्य प्रदेश : महू में आधा दर्जन से अधिक है खंडहर भवन, सिमरोल रेलवे और किशनगंज रेलवे ओवरब्रिज के नीचे भी चलते है अनैतिक काम, बढ़ रहे अपराध।

हाइलाइट्स :

  • सालभर पूर्व तीन साल की मासूम के साथ खंडहर भवन में बलात्कार के बाद कर दी थी हत्या

  • आए दिन नशेड़ियों का इन स्थानों पर लगता है मजमा, पुलिस नहीं देती है दबिश, दोबारा कोई बड़ी वारदात के इंतजार में पुलिस

महू, मध्य प्रदेश। शहर में तमाम ऐसे खाली खंडहर भवन है जहां पर अनैतिक कार्य होते रहते हैं तो वहीं नशेड़ियों का मजमा भी लगा रहता है। जिससे शहर में आए दिन अपराधिक रिकॉर्ड भी बढ़ रहे हैं। चोरी की वारदातों के साथ-साथ आए दिन थाना क्षेत्रों में नशे की हालात में मारपीट के मामले भी दर्ज हुए हैं। जो किसी दिन बड़े हादसे को निमंत्रण दे सकते हैं।

पुलिस के पास कोई ऐसा एक्शन प्लान नहीं है जिससे वे ऐसे ठिकानों को चिंहित कर उन पर दबिश दे। बता दें, शहर के दारू गोदाम स्थित खंडहर भवन, केंद्रीय विद्यालय के पास खंडहर भवन, रोड वेज डिपो, दशहरा मैदान स्थित भूत बंगला और सिमरोल रेलवे ब्रीज व किशनगंज रेलवे ब्रीज के नीचे खाली पड़े बोगदे जहां पर आए दिन रात होते ही अनैतिक गतिविधियां शुरू हो जाती हैं। जिसकी पुलिस को भनक तक नहीं लगती है। इन्हीं खाली स्थानों पर अपराधिक रिकॉर्ड वाले बदमाश, नशेड़ी एक साथ बैठकर शराबखोरी करते हैं फिर वहीं से प्लानिंग कर अपराधों का अंजाम देते हैं। बता दें, बीते कुछ माह से लगातार हो रही चोरियों की वारदात के पीछे भी कहीं ये खाली पड़े खंडहर भवन ही तो नहीं है। जहां पर पुलिस की दबिश नहीं देने की वजह से अपराध बढ़ते जा रहे हैं।

हो चुका है हादसा.. सुनसान जगहों को बना रखा पनाहगाह :

दारू गोदाम स्थित खंडहर में पूर्व से ही अनैतिक गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है। यहां पर बीते साल चक्की वाले मंदिर के पास सो रहे एक परिवार की 3 वर्षीय मासूम बच्ची को उठाकर दरिंदा आरोपी अंकित विजयवर्गीय खंडहर में ले गया और उसके साथ बलात्कार कर उस की खंडहर में गला दबाकर बच्ची की हत्या कर दी थी। फिलहाल कोर्ट ने आरोपी को फांसी की सजा भी सुना दी, लेकिन आज भी यह खंडार फिर किसी नए हादसे को न्योता देते नजर आ रहे हैं। मासूम के साथ दरिंदगी करने वाले अंकित ने उसका शव ऐसी ही जगह ठिकाने लगाया था। उसे पता था कि पुलिस यहां नहीं आएगी। लेकिन अभी तक ऐसे ही खंडहर मकान, और बोगदों को चिन्हित करने के साथ पुलिस और प्रशासन दोनों को निष्कर्ष निकालना होगा। शहरभर में ऐसे कई बोगदे खंडहर हैं जहां पुलिस की नजर नहीं है। शहर के दारु गोदाम के पास स्थित खंडहर हो या फिर इंदौर महू रोड स्थित दशहरा मैदान के पास वाले खंडहर पर पुलिस का ध्यान नहीं है। हालांकि, सच्चाई कुछ और है। वे ऐसी जगह सर्चिंग या पड़ताल नहीं करते जहां नशेडिय़ों का अड्डा बना हुआ हो। बदमाशों को भी पता है कि पुलिस यहां दाखिल नहीं होगी। उन्होंने ऐसे ही खंडहरों और पुल के नीचे की सुनसान जगह को अपनी पनाहगाह बना रखी है।

  • इस तरह झाड़ियों के पीछे छुपा है खंडहर भवन, जहां पर पुलिस भी जाने से है कतराती।

    इस तरह झाड़ियों के पीछे छुपा है खंडहर भवन, जहां पर पुलिस भी जाने से है कतराती।

  • खाली पड़ा खंडहर जहां पर आए दिन चलती है शराबखोरी।

    खाली पड़ा खंडहर जहां पर आए दिन चलती है शराबखोरी।

2 माह में यह अपराध आए सामने :

केस 1 - बीते दिनों पूर्व ही वेटनरी कॉलेज के पास यूनियन बैंक के एटीएम मशीन को कुछ अज्ञात बदमाशों ने तोडऩे की कोशिश की थी। लेकिन वे सफल नहीं हो सके। इन बदमाशों के सीसीटीवी कैमरे में फुटेज भी नजर आए। जिसमें वे मुंह पर कपड़ा बांधे थे। जिसकी वजह से उनकी पहचान नहीं हो पाई।

केस 2 - एक माह पूर्व ही महू के प्रसिद्ध चक्की वाले बाबा मंदिर पर भी चोरों ने मंदिर की दान पेटी चोरी कर फरार हो गए थे। जिसके बाद महू कोतवाली पुलिस पूरे एक्शन मोड पर आ गई थी। पुलिस ने मंदिर के साथ-साथ रातभर शराबखोरी कर घूमने वालों को भी नहीं बख्शा था। हालांकि पुलिस ने कुछ ही दिनों में एक चोर को पकड़ लिया, जबकि एक अन्य चोर अब भी फरार हैं।

केस 3 - महू के आरएसएस प्रमुख पदाधिकारी अनिल सोलंकी पर भी कुछ बदमाशों ने हमला कर दिया था। जिसके बाद संघ के पदाधिकारियों ने थाना का घेराव किया था। इतना ही नहीं, मारपीट की वारपीट की वारदातें तो आए दिन देखने को मिल रही हैं। फिर भी पुलिस इन पर लगाम नहीं कस रही है।

इन स्थानों पर पुलिस को लगाम लगाने की जरूरत :

यदि बात की जाए तो शहर में बढ़ रहे लगातार अपराध की तो पुलिस प्रशासन को शहर की कई ऐसी चुनिंदा जगह है जहां पर लगाम लगाने की अत्याधिक अवश्यकता है। जिससे आए दिन होने वाले मारपीट के अपराध थमेंगे। बता दें, पुलिस को चिकन मार्केट के पीछे लगने वाले तवा चिकन के स्टॉलों पर रात होते ही दो से तीन बार राउंड लगाना जरूरी है। क्योंकि इस स्थान पर शराब के नशे में धुत होकर बदमाश विवादों की स्थिति पैदा करते हैं। जो कई बार बड़े विवादों का कारण भी बनीं। दशहरा मैदान वाला रोड जो शाम होते ही पूरी तरह से सुनसान हो जाता है। यहां पर भी पुलिस को राउंड लगाना चाहिए। ताकि इस सूनसान रोड पर अनैतिक गतिविधि करने वाले बदमाश धड़पकड़ में आ सके। सिमरोल रेलवे ब्रीज के नीचे बनी तोप खाना कलाली के समीप बने छोटे बोगदे जहां पर देर रात तक नशेड़ी बैठे रहते हैं। जो पुलिस के गुजरने के बाद भी उन्हें दिखाई नहीं देते। ऐसे में पुलिस को जगह-जगह गश्त लगाकर इन अपराधों पर अंकुश लगाना जरूरी है।

इनका कहना है :

ऐसे स्थानों पर पुलिस की गश्त बढ़ाने के लिए महू एसडीओपी, थाना इंचार्ज को निर्देश दिए हैं। सुनसान इलाके वाले क्षेत्र के साथ-साथ शराबखोरी चलने वाले स्थानों पर भी पुलिस की गश्त अब लगातार रहेगी। इन स्थानों पर पकड़े जाने वालों पर भी सतत् कार्रवाई की जाएगी।

अमित तोलानी, एएसपी, महू

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co