आदिवासी कर्मचारियों को अपमानित करते थे कार्यपालन अभियंता
आदिवासी कर्मचारियों को अपमानित करते थे कार्यपालन अभियंता|Social Media
मध्य प्रदेश

आदिवासी कर्मचारियों को अपमानित करते थे कार्यपालन अभियंता, शिकायत दर्ज

शहडोल, मध्यप्रदेश: अधीनस्थ कर्मचारियों ने कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज कराने दी थी शिकायत, अशोक शुक्ला महिला कर्मचारियों से भी किया करते थे अभद्र व्यवहार।

Afsar Khan

शहडोल, मध्यप्रदेश। विद्युत विभाग में एसटीसी निर्माण शाखा में तैनात कनिष्ठ अभियंताओं ने 7 जून 2019 को कोतवाली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि अशोक शुक्ला तैनातगी के दौरान अपने कार्यालय में आदिवासी कर्मचारियों को बुलाकर जातिगत गालियां देने के साथ ही महिला कर्मचारियों के सामने अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर उन्हें अपमानित करने का काम करते थे, इतना ही नहीं उन्हें एमडी से अपनी पहुंच होने के चलते नौकरी से निकलवा देने की धमकी दिया करते थे।

आदिवासियों का करते थे अपमान :

शिकायत में उल्लेख किया गया है कि कार्यपालन अभियंता अशोक कुमार शुक्ला के द्वारा कनिष्ठ अभियंता अश्वनी कुमार पाण्डेय, कुमारी प्रीति सिंह मार्काे, कुमारी कीर्ति सिंह धुर्वे व सहायक अभियंता बृहष्पति सिंह मरावी को अपने कार्यालय में बुलाकर कई दिनों तक सहकर्मियों की मौजूदगी में जातिगत गालियां देकर अपमानित करने के साथ ही दुर्व्यवहार किया करते थे। इतना ही नहीं महिला अधिकारी के सामने ही आदिवासी समाज के कर्मचारियों का उत्पीड़न भी किया जाता था।

शिकायत की प्रति
शिकायत की प्रति Afsar Khan

नौकरी से हाथ धोने की धमकी :

पीड़ितों का आरोप है कि एमडी से अपनी अच्छी पहुंच बताकर अकसर अशोक कुमार शुक्ला उन्हें कार्यालय में बुलाकर अपमानित करने के बाद नौकरी से हाथ धोने तक की धमकी दिया करते थे। इतना ही नही उन्हें यह भी कहा जाता था कि तुम सब कर्मचारी आरक्षण के चलते यहां पर मौजूद हो, लगातार कई दिनों तक आदिवासी कर्मचारियों का उत्पीड़न अशोक शुक्ला द्वारा किया गया, इस दौरान सामान्य वर्ग के कर्मचारी अविनाश पाण्डेय के साथ ही महिला कर्मचारी भी मौजूद थी।

महिलाओं कर्मचारी से भी करते थे अभद्रता :

अशोक शुक्ला पर आरोप है कि 7 जून 2019 को दोपहर 11 बजे उन्होंने अविनाश पाण्डेय, कुमारी प्रीति सिंह एवं कुमारी कीर्ति सिंह धुर्वे को ठेकेदार को स्टोर से सामग्री देने के कार्य के लिए अपने केबिन में बुलाया और उन्हें जातिगत गालियां देते हुए अपमानित किया और नौकरी से निकलवा देने की धमकी दी। आदिवासी कर्मचारी उनके इस आचरण से खासा परेशान थे, खासतौर पर महिला आदिवासी अधिकारी, लेकिन कथित अधिकारी की पहुंच के चलते विभाग ने कोई कार्यवाही नहीं की, तब जा कर इन्हें पुलिस के पास शिकायत देनी पड़ी।

खुला है आदिमजाति कल्याण विभाग :

अधीनस्थ कर्मचारियों ने शिकायत में अशोक शुक्ला के ऊपर कई संगीन आरोप लगाये हैं, जिसमें कहा गया है कि वह उन्हें अक्सर कहा करते थे कि तुम आरक्षण की उपज हो, तुम लोगों के लिए आदिमजाति कल्याण विभाग खुला हुआ है, जहां पर तुम्हारे समुदाय के लोगों की भर्ती होती है। सभी पीड़ित कर्मचारियों ने इस मामले में कोतवाली पुलिस के साथ ही पुलिस अधीक्षक से अशोक शुक्ला के विरूद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की मांग की थी, लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हो सकी है।

इनका कहना है :

यह जो कर्मचारी आरोप लगा रहे हैं यब सब ठेकेदार को चोरी से सामाना देने में शामिल थे, जिनके खिलाफ मैंने कार्यवाही की थी पहले भी यह लोग कोतवाली महिला थाना और पुलिस अधीक्षक के यहां शिकायत कर चुके हैं।

अशोक शुक्ला, तत्कालीन कार्यपालन अभियंता, विद्युत विभाग, शहडोल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co