परिवहन विभाग के मानवरहित चेकपोस्ट बनाने की संभावनाएं तलाशी जाएं : शिवराज सिंह
परिवहन और राजस्व विभाग की समीक्षा बैठकSocial Media

परिवहन विभाग के मानवरहित चेकपोस्ट बनाने की संभावनाएं तलाशी जाएं : शिवराज सिंह

श्री चौहान ने परिवहन विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि क्या चेकपोस्ट मानवरहित हो सकते हैं, यदि यह हो जाए, तो क्रांतिकारी कदम होगा।

भोपाल, मध्यप्रदेश। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अधिकारियों से कहा कि परिवहन विभाग के चेकपोस्ट मानवरहित बनाने की संभावनाओं को तलाशा जाए। श्री चौहान ने परिवहन विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान ये निर्देश विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि क्या चेकपोस्ट मानवरहित हो सकते हैं, यदि यह हो जाए, तो क्रांतिकारी कदम होगा। ऐसी व्यवस्था बनायी जाए, जिससे चेकपोस्ट पर वाहन चालकों के परेशान या तंग होने संबंधी खबरें नहीं आएं। उन्होंने यह भी जानना चाहा कि अब तक मानवरहित चेकपोस्ट को लेकर क्या काम हुआ है।

उन्होंने ग्रामीण परिवहन को लेकर भी समय सीमा में व्यवस्थित कदम उठाने के लिए अधिकारियों से कहा, जिससे आगामी दिसंबर माह तक ग्रामीण परिवहन की ठोस नीति बनाने में मदद मिल सके। उन्होंने कहा कि सरकार का प्रयास है कि अगले साल जनवरी तक नयी ग्रामीण परिवहन नीति का क्रियान्वयन शुरू हो जाए। उन्होंने विभाग से संबंधित अन्य निर्देश भी अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री ने इसके अलावा कोरोना की राज्य में मौजूदा स्थिति को लेकर भी समीक्षा की। उन्होंने कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ने का जिक्र करते हुए कहा कि एक माह बाद कितने संक्रमित हो सकते हैं, इसका अनुमान लगाकर उसके अनुरूप अस्पतालों और स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्थाएं की जाएं। उन्होंने किशोरवय बालक बालिकाओं के वैक्सीनेशन पर और जोर देने के लिए कहा।

श्री चौहान ने राजस्व विभाग की भी समीक्षा की और इस संबंध में अनेक निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। श्री चौहान ने नए वर्ष की शुरूआत में ही प्रत्येक विभाग की समीक्षा बैठकें प्रारंभ की हैं। वे लगभग सभी विभागों की समीक्षा कर चुके हैं। इस दौरान उन्होंने मुख्य रूप से विभाग में अब तक हुए कार्यों के बारे में जानकारी हासिल कर आगामी एक साल के लक्ष्य दिए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.