ग्वालियर में जूता फैक्ट्री के गोदाम में पटाखे से लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी
ग्वालियर में जूता फैक्ट्री के गोदाम में लगी भीषण आगSocial Media

ग्वालियर में जूता फैक्ट्री के गोदाम में पटाखे से लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : दीपावली की रात ग्वालियर जिले के एक जूता फैक्ट्री गोदाम में पटाखा गिरने से भीषण आग लग गई, आग लगने से वहा अफरा-तफरी मच गई।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। प्रदेश में आगजनी की घटना कुछ ज्‍यादा ही तहलका मचा रही हैं। मिली जानकारी के मुताबिक अब ग्वालियर जिले में भीषण आग लग गई है। दीपावली की रात जिले के एक जूता फैक्ट्री गोदाम में पटाखा गिरने से आग लग गई है, आग का पता उस समय लगा जब गोदाम से आग की लपटें निकलती दिखीं।

जानिए कैसे लगी आग :

घटना मध्यप्रदेश के ग्वालियर का है, ग्वालियर जिले में रात करीब 3 से 4 बजे अचानक कोई पटाखा जलता हुआ गोदाम की जाली से अंदर गिरा और आग भड़क गई। भीषण आग लगने से अफरातफरी मच गई। घटना की सूचना तत्काल पुलिस और फायर ब्रिगेड को मामले की सूचना दी गई। सूचना मिलते ही TI मौके पर पहुंचे और स्थिति को संभाला।

मौके पर पुलिस पहुंची :

वहीं, आसपास रहने वाले लोगों को अलर्ट करते हुए घरों से बाहर निकाला, इसी समय दमकल दस्ता मौके पर पहुंच गया। दकमल दस्ते ने करीब 10 फायर ब्रिगेड पानी फेंककर आग पर काबू पाया है। आग बुझाने में 4 घंटे से ज्यादा समय लग गया। जूता फैक्ट्री गोदाम में आग से आसपास दहशत फैल गई। मिली जानकारी के मुताबिक गोदाम के पीछे रहने वाले भाजपा नेता लाला बाबू अग्रवाल के भाई गिर्राज अग्रवाल जान बचाने के लिए टीन शेड से कूद गए। उन्हें हल्की चोट आई है।

आपको बताते चलें कि, इससे पहले मध्यप्रदेश की राजधानी से आग की घटना सामने आई है। दिवाली की रात राजधानी भोपाल के कई इलाकों में आग लगने की घटनाएं हुईं, भोपाल के सूखी इमामबाड़ा में फूड गोदाम में भीषण आग लगी वही रोशनपुरा चौराहे पर आतिशबाजी से पेड़ जल गया। इस्लामी गेट शाहजहांनाबाद में जीप, वाजपेयी नगर मल्टी में एक फ्लैट, साकेत नगर एम्स के आगे घर में रखे सिलेंडर में आग भड़की। बैरागढ़ में दो दुकानें, करोंद मंडी के अंदर 1 दुकान में आग लग गई। नीचे दी गई लिंक पर क्लिक कर पढ़ें खबर- दिवाली की रात भोपाल में इन स्थानों पर लगी आग

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.