ग्वालियर : समय रहते पा लिया था आग पर काबू नहीं तो 80 लाख का होता नुकसान

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : व्यापारिक प्रतिष्ठानों में लगातार आगजनी की घटनाएं हो रही हैं। इसके बावजूद व्यापारी सुरक्षा के इंतजाम करने पर ध्यान नहीं दे रहे।
ग्वालियर : समय रहते पा लिया था आग पर काबू नहीं तो 80 लाख का होता नुकसान
पारसमणि मॉल में लगी आगSocial Media

हाइलाइट्स :

  • मामला, पारसमणी मॉल में सोमवार रात हुई आगजनी का

  • कम्प्यूटर व्यवसायी की दुकान में लगी थी आग, 35 लाख का हुआ नुकसान

  • बगल की दुकान में भरे 40 लाख से अधिक के सामान को सुरक्षित बचाया

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। जयेन्द्र गंज के पारसमणि मॉल में सोमवार रात को लगी आग ने एक बार फिर व्यापारियों को दहशत में ला दिया है। मॉल में अधिकतर दुकानें कम्पयूटर एवं हार्ड के सामान की है और नीचे की दुकानों को गोदाम के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। आगजनी की घटना में व्यापारी आशीष गुप्ता को 35 लाख का नुकसान हुआ है। मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड ने तत्काल आग पर काबू पा लिया नहीं तो दूसरी दुकान में रखा सामान भी जल जाता। इससे दोगुना नुकसान होना तय था। निगम अधिकारियों के अनुसार दुकान में फायर फायटिंग सिस्टम दिखाई नहीं दिए। इस संबंध में पत्र लिखकर जानकारी मांगी जायेगी।

व्यापारिक प्रतिष्ठानों में लगातार आगजनी की घटनाएं हो रही हैं। इसके बावजूद व्यापारी सुरक्षा के इंतजाम करने पर ध्यान नहीं दे रहे। इंदरगंज चौराहे पर दो माह पहले हुई आगजनी में एक ही परिवार के 6 लोगों की जान गई थी। इसके बाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई जिसमें घनी आबादी वाले व्यापारिक क्षेत्र एवं आवासीय क्षेत्रों में 'वनशील पदार्थों के व्यवसाय पर आपत्ति दर्ज कराई गई थी। उच्च न्यायालय ने इस मामले में नगर निगम से जानकारी मांगी है। उच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी होने के बाद जो भी निर्णय दिया जायगा उसके अनुसार प्रशासन एवं नगर निगम कार्यवाही शुरू करेगा। ऐसी ही दूसरी घटना पारसमणि मॉल में सोमवार की रात हो सकती थी, लेकिन गनीमत रही कि आगजनी में सिर्फ कम्प्यूटर से संबंधित सामान ही जला। व्यापारी एवं अन्य स्टाफ पूरी तरह बच गया। फायर बिग्रेड अमला सूचना मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंच गए था और पांच गाड़ी पानी फेंककर आग बुझाई। इस घटना में 35 लाख रुपय का नुकसान होने की बात कही गई है। दमकल अधिकारियों के अनुसार बगल वाली दुकान में भी 35 से 40 लाख रुपय का सामान रखा हुआ था जिसे बचा लिया गया है।

नगर निगम अधिकारी जांचेंगे सुरक्षा व्यवस्था :

लगातार होती आगजनी की घटनाओं को देखते हुए नगर निगम अधिकारी जल्द ही बाजारों का निरीक्षण शुरू करेंगे। कितने प्रतिष्ठानों में आगजनी से बचने के लिए फायर फायटिंग सिस्टम लगे हुए हैं इसकी सूची तैयार की जायगी। जिन प्रतिष्ठानों पर सिस्टम लगे नहीं पाए जायेंगे उनके खिलाफ कार्यवाही की जायगी। संबंध में नोटिस भी जारी किए जायेंगे।

चेम्बर ने आर्थिक सहायता के लिए सीएम को लिखा पत्र :

कम्प्यूटर व्यवसाई आशीष गुप्ता के प्रतिष्ठान मेसर्स पोरवाल इन्टरप्राइजेज, पारसमणी मॉल, जयेन्द्रगंज में आग लग जाने के कारण हुए आर्थिक नुकसान की क्षतिपूर्ति के लिए चेम्बर ऑफ कॉमर्स ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं जिलाधीश ग्वालियर को पत्र प्रेषित कर 30 लाख की आर्थिक सहायता मुहैया कराए जाने की मांग की है । चेम्बर के मानसेवी सचिव प्रवीण अग्रवाल ने बताया कि लॉक डाउन के कारण वैसे ही व्यापार चौपट पड़ा था और ऐसे में आगजनी की घटना ने व्यापारी को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। सरकार व्यापारी को आर्थिक सहायता दे।

इनका कहना है :

फायर सिस्टम की एनओसी भोपाल स्तर पर जारी हो रही है इसलिए हमें अधिक जानकारी नहीं है। लेकिन लगातार हो रही आगजनी की घटनाओं को देखते हम जल्द ही बाजारों का निरीक्षण कर जानकारी लेंगे। व्यापारियों को स्वयं अपने जानमाल की रक्षा के लिए आगे बढ़कर व्यवस्था करनी चाहिए। सभी को फायर फायटिंग सिस्टम लगाने चाहिए जिससे छोटी-मोटी आगजनी की घटना पर तत्काल काबू किया जा सके।

केशव चौहान, नॉडल अधिकारी, फायर बिग्रेड, नगर निगम

जब हम आग बुझाने पहुंचे तो भयानक लपटें निकल रहीं थीं। सबसे पहले आग बुझाने पर ध्यान दिया गया और समय रहते आग बुझा दी गई। मॉल में फायर फायटिंग सिस्टम लगा था या नहीं यह हम नहीं देख पाए।

देवेन्द्र जखेनियां, सहायक अधिकारी, फायर बिगे्रड, नगर निगम

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co