पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ|Social Media
मध्य प्रदेश

पूर्व मुख्यमंत्री ने शिवराज सरकार पर उपचुनाव को लेकर साधा निशाना

मध्यप्रदेश में कोरोना के साथ ही साथ राजनीतिक सियासत भी जारी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश की शिवराज सरकार पर उपचुनाव को लेकर निशाना साधा है। जाने क्या कहा पूर्व सीएम कमलनाथ ने....

Aditya Shrivastava

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना संकट के साथ ही साथ शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार और 15 जिलों की 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर भी राजनीतिक सियासत जारी है। आज जहां एक तरफ कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे और वर्तमान की शिवराज सरकार में भी मंत्री तुलसी सिलावट के 6 कांग्रेस दिग्गी समर्थक भाजपा में शामिल हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज आवश्यकता है सभी को मिलकर कोरोना महामारी से लड़ने की, लेकिन तैयारियाँ की जा रही हैं चुनाव लड़ने की।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट के जरिए प्रदेश की शिवराज सरकार पर तंज कसते हुए कहा, कितना शर्मनाक है। आज आवश्यकता है कोरोना प्रभावित इलाक़ों में एवं प्रदेश के मार्गों व सीमाओं पर जाकर भूखे प्यासे मज़दूरों से मिलकर उनका दर्द जानने की। लेकिन जा रहे हैं अपने कार्यालय उपचुनाव की तैयारियों के लिये,चुनाव जीतने की रणनीति बनाने के लिये, लोगों का दलबदल करवाने के लिये। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता है इस महामारी से प्रदेश में बढ़ते प्रकोप को देखते हुए केन्द्र सरकार से बात कर प्रदेश में टेस्टिंग किट की कमी दूर करने की, टेस्टिंग के लिये निजी लैब को ज़्यादा से ज़्यादा अनुमति दिलवाने की, वेंटिलेटर व पीपीई किट की कमी को दूर करने की।

उन्होंने लिखा कि केन्द्र सरकार व उसके मंत्रियो से इस महामारी में भी बात की जा रही है उपचुनावों को जीतने के लिये “एक्सप्रेस वे “ के भूमिपूजन की। आज आवश्यकता है सभी को मिलकर कोरोना महामारी से लड़ने की। लेकिन तैयारियाँ की जा रही है चुनाव लड़ने की, इस महामारी में भी पद बाँटे जा रहे हैं, जवाबदारी कोरोना से निपटने की नहीं, उपचुनाव जिताने की दी जा रही है ?

पूर्व मुख्यमंत्री ने आगे लिखा, यह है इनकी संवेदनशीलता। इन्हें जनसेवा नहीं, सत्ता की भूख है। इन्हें कोरोना से प्रदेशवासियों को नहीं बचाना है, इन्हें पहले खुद की सरकार को बचाना है। इनकी प्राथमिकता जनता नहीं सत्ता लोलुपता है। बेचारी जनता कोरोना से लड़ रही है और ये पद व टिकट के लिये लड़ रहे हैं।

आपको बता दें कि प्रदेश की शिवराज सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट के 6 समर्थकों ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इन्हें भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता दिलाई हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और मंत्री तुलसी सिलावट ने दावा किया कि अभी कई दिग्गी नेता कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co