MP के नागदा में ग्रेसिम उद्योग से गैस का रिसाव- शहर में मचा हड़कंप
MP के नागदा में ग्रेसिम उद्योग से गैस का रिसाव- शहर में मचा हड़कंपPriyanka Sahau -Re

MP के नागदा में ग्रेसिम उद्योग से गैस का रिसाव- शहर में मचा हड़कंप

मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन जिले के नागदा से ग्रेसिम स्टेपल फाइबर डिवीजन के CSA प्लांट से गैस का बहुत ज्यादा रिसाव हो रहा है। इस दौरान सभी को मास्क गिला करके पहने जाने की सलाह दी जा रही है।

राज एक्‍सप्रेस। देश कोरोना महामारी की आपदा के बीच आए दिन अनहोनी की घटनाओं ने भी तहलका मचा रखा है, जिससे दहशत का माहौल बन रहा है। किसी न किसी राज्‍य में कुछ न कुछ गंभीर परिस्थितियां लगातार दिखाई दे रही हैं। इन परिस्थितियों में फिर चाहें कोई प्राकृतिक संकट आया हो या फिर कोई गंभीर दुर्घटना व घटना। अब आज बुधवार को मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन जिले के नागदा से गैस लीकेज का मामला सामने आया है।

नागदा में स्थानीय उद्योग से हो रहा गैस का रिसाव :

नागदा में गैस लीकेज की घटना के बारे में मिली जानकारी के मुताबिक, नागदा में स्थानीय उद्योग से ग्रेसिम स्टेपल फाइबर डिवीजन के CSA प्लांट से ओलियम गैस बहुत ज्यादा रिसाव होने की घटना से शहर में हड़कंप मच गया, लोग अपने-अपने घरों में कैद हो गए हैं। नागदा वासियों के अनुसार, ''धुआं इतना ज्यादा था कि, आमने-सामने के व्यक्ति दिखाई नहीं दे रहे थे। हर कोई व्यक्ति एक दूसरे को फोन लगाकर गैस के मामले में जानकारी ले रहे थे।''

शहर में फैला गैस का धुआं ही धुआं :

तो वहीं, उद्योग अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी का भी पता लगा है कि, अब रिसाव बंद हो गया। ग्रेसिम उद्योग के cs2 विभाग से शाम 4:00 बजे ओलियम गैस का रिसाव होने से पूरे शहर में गैस का धुआं ही धुआं फैल गया। शहर में गैस का धुंआ ज्‍यादा फैल जाने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके मद्देनजर ऐसे में सभी लोगों को मास्‍क गीला करके लगाने, साथ ही गीला कपड़ा से आंखें पोछते और घबराहट होने पर तो गीले कपड़े से अपना मुंह ढकने की सलाह दी जा रही है।

पुलिस प्रशासन का एक अमला मौके पर मौजूद है। शहरवासी घरों में कैद हो गए हैं। साथ ही समय से पहले श्रमिकों को सुरक्षा की दृष्टि से घर भेज दिया गया है।

क्या है मामला :

बुधवार की शाम ग्रेसिम उद्योग के सीएसटू विभाग से शाम 4 बजे अचानक गैस का बड़ी मात्रा में रिसाव हुआ। हवा का रूख शहर की तरफ होने से सारी गैस मंडी क्षेत्र में आने से धुआं ही धुआं हो गया। धुआं इतना ज्यादा था कि पास का व्यक्ति दिखाई नहीं दे रहा था। बढ़ते धुएं को देखते हुए शहर में अफरा-तफरी मच गई। हर कोई एक-दूसरे से मोबाईल पर कौन सी गैस है इससे कैसे बचा जाए इसकी जानकारी लेता रहा। कई लोग तो अपने निजी वाहन से शहर के बाहर तक चले गए। गैस लगने से आंखो में जलन, खांसी व सांस लेने में तकलीफ हुई। कई लोगों ने अस्पताल में जाकर उपचार कराया। हालांकि गैस रिसने से कोई जनहानी नहीं हुई। कुछ लोग उपचार के बाद सामान्य हो गए।

उद्योग प्रबंधन ने सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी प्रसारित की :

उद्योग प्रबंधक ने सोशल मीडिया पर लिकेज गैस के नियंत्रण होने की सूचना के साथ गैस से बचने की जानकारी दी। बता दें कि, कई वर्षो बाद इतनी ज्यादा मात्रा में रिसी गैस से शहरवासियों में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया था। सोशल मीडिया पर कई तरह के कमेंट्स भी डाले जा रहे थे। उद्योग के जनंसपर्क अधिकारी ने स्थिति पर बताया कि :

ऐसिड प्लांट नंबर 1 में गैस की लाईन की सफाई का मेंटनेंस का कार्य पिछले शनिवार से किया जा रहा था। ड्रेन वॉल्व में सफाई के दौरान निर्धारित कार्य विधि के अनुसार लाईन क्लिीनिंग के साथ ड्रेन वॉल्व में थोड़ी मात्रा में पेरापेड वाल के अंदर फैल गया जिससे सल्फरट्राई ऑक्साईड गैस रिसने लगी। सुरक्षा साधनों के साथ इसे नियंत्रण किया गया। उद्योग प्रबंधक नियंत्रण के समय स्वयं उपस्थित रहे। गैस लीकेज के मामले में जांच होने के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

संजय व्यास, उद्योग के जनंसपर्क अधिकारी

घटना की जांच के लिए कलेक्टर ने बनाया दल :

ग्रेसिम उद्योग से गैस रिसने का बड़ा मामला हो गया जवाबदार अधिकारी एसडीएम आशुतोष गोस्वामी ने मोबाईल अटैंड नही किया। एडीएम संतोष टेगोर ने बताया कि मामले को कलेक्टर आशीष सिंह ने गंभीरता से लेते हुए एसडीएम आशुतोष गोस्वामी की अध्यक्षता में जांच कमेटी बनाई है। जिसमें प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व हेल्थ एण्ड सेफ्टी विभाग के वरिष्ठ अधिकारी को शामिल किया गया है। गुरूवार से कमेटी जांच कर गैस रिसने के कारण का पता लगाएगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.