कोरोनाकाल में नुकसान की भरपाई: जबलपुर से बांग्लादेश भेजी गई विशेष मालगाड़ी

जबलपुर, मध्यप्रदेश : जबलपुर से बांग्लादेश के लिए 24 रैक की मालगाड़ी रवाना हुई, मालगाड़ी में 1400 टन वजन का आयरन और स्टील टावर लदे हुए हैं।
कोरोनाकाल में नुकसान की भरपाई: जबलपुर से बांग्लादेश भेजी गई विशेष मालगाड़ी
जबलपुर से बांग्लादेश भेजी गई मालगाड़ीजबलपुर से बांग्लादेश भेजी गई स्पेशल मालगाड़ी

जबलपुर, मध्यप्रदेश। प्रदेशभर में जहां त्योहारी सीजन को देखते हुए रेलवे लगातार ट्रेनों की संख्या बढ़ा रहा है। वहीं इस बीच रेलवे कोरोना काल में हुए घाटे की भरपाई के लिए नये-नये प्रयोग कर रहा है, बता दें कि नये प्रयोग के तहत पश्चिम मध्य रेलवे ने स्टील से भरी एक मालगाड़ी जबलपुर से बांग्लादेश के लिए रवाना की है, ऐसा पहली बार है कि जब पश्चिम मध्य रेल ज़ोन से कोई ट्रेन बांग्लादेश रवाना हुई है।

आयरन-स्टील टावर लेकर जबलपुर से बांग्लादेश भेजी गई मालगाड़ी :

प्रदेश के जबलपुर से बांगलादेश के लिए स्पेशल मालगाड़ी भेजी गई है, स्पेशल मालगाड़ी में 1400 टन वजन का आयरन और स्टील टावर लदे हुए हैं, जबलपुर से भेजे गए टावर बांग्लादेश के शहरों में असेंबल करके मोबाइल टावर के रूप में इस्तेमाल किए जाएंगे। बता दें कि ट्रांसपोर्ट कंपनी के अधिकारियों का कहना है अन्य पड़ोसी देशों के लिए भी मालगाड़ी भेजी जाएंगी।

हरी झंडी दिखाकर मालगाड़ी को किया रवाना :

जबलपुर से बांग्लादेश के लिए 24 रैक की मालगाड़ी रवाना हुई, मालगाड़ी को मंडल रेल प्रबंधक व सीनियर डीसीएम ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह ट्रेन आयरन व स्टील के टावर लेकर गोसलपुर मालगोदाम से बांग्लादेश रवाना हुईगोसलपुर मालगोदाम से फर्म मैसर्स इनलैंड वर्ल्ड लॉजिस्टिक्स मुम्बई की ओर से आयरन एवं स्टील के टावर पार्ट्स बुक किया गया। खास बात यह है कि जबलपुर रेल मंडल के इतिहास में यह पहला मौका था जब कोई मालगाड़ी जबलपुर से विदेश के लिए रवाना हुई।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co