Raj Express
www.rajexpress.co
किसानो ने की मुआवजे की मांग
किसानो ने की मुआवजे की मांग|Nilesh Dhariwal
मध्य प्रदेश

सरकार और अधिकारी दें, अन्नदाता का साथ: सिंधिया

जावरा,रतलामः प्रदेश सरकार अपनी जिम्मेदारी शीघ्र पूरी करते हुए एक-एक प्रभावित किसान के खाते में मुआवजा राशि पहुंचाना शुरू कर देगी। अब बारी है, केन्द्र सरकार की।

Nilesh Dhariwal

राज एक्सप्रेस। रतलाम के जावरा में पिपलिया जोधा क्षेत्र में पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार बाढ़ प्रभावित किसानों-मजदूरों के साथ है, प्रदेश सरकार अपनी जिम्मेदारी शीघ्र पूरी करते हुए एक-एक प्रभावित किसान के खाते में मुआवजा राशि पहुंचाना शुरू कर देगी और कहा कि केंद्र सरकार भी बाढ़ प्रभावित किसानों, मजदूरों के लिए शीघ्र ही राहत राशि स्वीकृत करे।

किसानों और मजदूरो के दुःखदर्द में साथ है सरकारः

जनसभा को संबोधित करते हुए सिंधिया, किसानों से बोले कि चंबल के साथ ही मालवा-निमाड़वासियों के दुख दर्द में मेरा परिवार सदैव खड़ा रहा है। मेरे पिताजी स्व. महाराज का जीवनभर इस क्षेत्र से सेवारूपी जुड़ाव रहा है। आज खुद आपके साथ खड़ा हूँ। जिसके लिए मेरा मानना है कि किसानी विपदा की घड़ी में अन्नदाताओं के साथ सरकार, अधिकारी और कर्मचारियों को अब खड़ा होना ही होगा।

बिगड़ी फसलों का सर्वे करे प्रशासनः

सिंधिया ने कहा कि,मेरा प्रशासन से आग्रह है कि वो दो-चार दिन बाद बारिश बंद होने पर पुन: बिगड़ी फसलों का सर्वे करे, सर्वे के आधार पर पीड़ित किसानों की मदद करे। ऐसे में आपदा की इस घड़ी में भाजपा और कांग्रेस की राजनीति नही होनी चाहिए। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मै अपने साथ स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट को लाया हूँ जो अपने विभाग से क्षेत्र के समस्त लोगों का स्वास्थ्य चैकअप करवा कर सरकार से स्वास्थ्य राशि दिलवाएगें।

किसानों ने अतिवृष्टि से अवगत करायाः

किसानों ने उन्हे अतिवृष्टि से हुए नुकसान से अवगत कराया। मुआवजे के लिए सिंधिया के सामने हाथ जोड़ते किसान नजर आए। उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि शीघ्र ही सभी पीड़ितों को मुआवजा मिलेगा। कीर्तिशरणसिंह, धरमचंद चपडोद, देवेन्द्र भटनागर, कुतुबुद्दीन सेफ, विनय पंवार, मोहन सैनी, जरदाद खान, पंकज चोराड़िया, पवन चौरसिया आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे। ज्योतिरादित्य सिंधिया के वाहन में पूरे समय प्रदेश कांग्रेस सचिव केकेसिंह कालूखेड़ा रहे।