Raj Express
www.rajexpress.co
श्रावण द्वादशी 76वां मां अन्नपूर्णा मेला जलबिहार का भव्य शुभारंभ
श्रावण द्वादशी 76वां मां अन्नपूर्णा मेला जलबिहार का भव्य शुभारंभ|Sanjay Awasthi
मध्य प्रदेश

छतरपुर: रिमझिम फुहारों के बीच हुआ मेला-जलविहार का भव्य शुभारंभ

छतरपुर, मध्य प्रदेश: रिमझिम फुआरों के बीच श्रावण द्वादशी 76वां मां अन्नपूर्णा मेला-जलविहार का भव्य शुभारंभ, बद्रीनाथ से पधारे परम पूज्यनीय संत बालक योगेश्वरदास के सानिद्ध में संपन्न हुआ।

Sanjay Awasthi

हाइलाइट्स:

  • रिमझिम फुहारों के बीच किया श्रावण द्वादशी 76वां मां अन्नपूर्णा मेला जलबिहार का भव्य शुभारंभ
  • संत बालक योगेश्वरदास महाराज ने अपनी अमृतमयी वाणी से उपस्थित जनसमुदाय को किया सम्बोधित
  • जिले में विश्व आत्महत्या निषेध दिवस कार्यक्रम सम्पन्न मेलों को लेकर महिलाओं में विशेष उत्साह

राज एक्सप्रेस। श्रावण द्वादशी 76वां मां अन्नपूर्णा मेला जलविहार का भव्य शुभारंभ बद्रीनाथ से पधारे परम पूज्यनीय संत बालक योगेश्वरदास के सानिद्ध में रिमझिम फुआरों के बीच नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमति अर्चना सिंह ने फीता काटकर किया एवं महाआरती में भी शामिल हुई। इस अवसर पर महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष द्रोपती कुशवाहा, पार्षद स्वाति कुचया, सीता सिंह, गिरजा पाटकर,बच्ची राजा, आशीष पाठक उपस्थित रहे।

समिति महासचिव दिलीप सेन का कहना :

समिति महासचिव दिलीप सेन ने बताया कि, मेले के शुभारंभ के अवसर पर संत बालक योगेश्वरदास महाराज ने अपनी अमृतमयी वाणी से उपस्थित जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा कि, मेले में एक साथ इतनी संख्या में विमानों का विराजमान होना अद्वितीय एवं मनोरम दृश्य है, जिनके दर्शन मात्र से मन प्रसन्न हो गया। महाराज ने कहा कि, यदि हम बड़े-बड़े हवन-पूजन, यज्ञ, धार्मिक आयोजन नहीं कर सकते तो कोई बात नहीं, लेकिन यदि हमें प्रभु से साक्षात्कार करना है और उनकी कृपा का पात्र बनना है, तो एक काम करिए, आप रोज जो सात्विक भोजन करते हैं, उसे पहले प्रभु को भोग लगाइए और नये कपड़े लेते हैं, तो उन्हें पहनने से पहले प्रभु को अर्पण कीजिए, फिर अपने जीवन में परिवर्तन देखिए।

मुख्य अतिथि रहीं अर्चना सिंह :

मुख्य अतिथि अर्चना सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि, पारंपरिक मेले हमारी प्राचीन धरोहर हैं, जिन्हें सहेजना हमारा दायित्व है, मेला जलबिहार समिति बधाई की पात्र है, जो इतने बड़े आयोजन को बखूबी निरंतर कर रही है। अर्चना सिंह ने कहा कि, मेलों को लेकर महिलाओं में विशेष उत्साह रहता है और वह वर्षभर इन मेलों का इंतजार करती हैं, क्योंकि कई वस्तुएं ऐसी होती हैं, जो सिर्फ मेले में मिल सकती हैं कहीं और नहीं। श्रीमती सिंह ने मेला समिति को पूर्व की तरह नगर पालिका से पचास हजार रूपये देने की घोषणा कर समिति को सहयोग का आश्वासन दिया।

जवाबी कीर्तन आज :

मंच से दिनांक 14 सितम्बर को जवाबी कीर्तन नीलम विश्वकर्मा लवकुशनगर एवं शंभू हलचल कानपुर के बीच शानदान मुकाबला होगा एवं 15 सितम्बर को लोकगीतों की रंगारंग प्रस्तुति चिरईया एण्ड पार्टी द्वारा दी जायेगी।