उमरिया : सफारी के दौरान जंगली हाथियों से सैलानियों को सुरक्षित करेंगे गाइड

उमरिया, मध्य प्रदेश : एक अक्टूबर से कोर व बफर के गेट सफारी के लिए खोल दिए जाएंगे। इसके पूर्व हर वर्ष की भांति इस बार भी ताला में गाइडों को प्रशिक्षण दिया गया।
उमरिया : सफारी के दौरान जंगली हाथियों से सैलानियों को सुरक्षित करेंगे गाइड
सफारी के दौरान जंगली हाथियों से सैलानियों को सुरक्षित करेंगे गाइडAfsar Khan

उमरिया, मध्य प्रदेश। बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व में वर्ष 2020-21 का नया पर्यटन सीजन शुरु होने के साथ ही गाइड, चालक व पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों में उत्साह का माहौल है। एक अक्टूबर से कोर व बफर के गेट सफारी के लिए खोल दिए जाएंगे। इसके पूर्व हर वर्ष की भांति इस बार भी ताला में गाइडों को प्रशिक्षण दिया गया। 26 सितंबर को कार्यक्रम का समापन हुआ। इस बार कोर व बफर मिलाकर 101 गाइड इसका हिस्सा रहे। सभी को मुख्य ट्रेनर के रूप में पुणे से आए वाइल्ड लाइफ एक्सपर्ट सुशील चिकने, वन अधिनियम संबंधी जानकारी यश कुमार सोनी व हाथियों के मूवमेंट को लेकर पुष्पेन्द्र द्विवेदी ने महत्वपूर्ण जानकारी दी।

सैलानियों को रुझाने सीखे हुनर :

कार्यक्रम अनुसार छह दिवसीय प्रशिक्षण में 101 गाइड वन्यजीव व प्रकृति सौंदर्य की कला से सैलानियों को रिझाने की कला से पारम्पगत हुए। आखिरी दिन आकलन के नजरिए से इनकी परीक्षा भी ली गई। प्राप्त अंकों के आधार पर पार्क प्रबंधन उनकी ग्रेडिंग करेगा। प्रशिक्षण में मुख्य रूप से वन्यजीवों की गतिविधि, वनस्पति एवं  भौगोलिक  आधारित जानकारी दी गई। इस बार पहली बार हाथी व कोरोना विषय को भी प्रशिक्षण में शामिल किया गया। बताया गया कि सफारी के दौरान अचानक सामने जंगली हाथी आ जाए तो किस तरह से खुद व पर्यटक का बचाव करना है। इसकी बारीकिया ट्रेनर पुष्पेन्द्र द्विवेदी ने बताईं। इसी तरह मास्टर ट्रेनर सुनील चिकने ने वाइल्ड लाइफ  के अनुभव को साझा किया। बताया गया सफारी के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के मुख्य तरीको में जरा भी चूक बर्दाश्त नहीं होगी।

दुर्घटना से बचाव के सीखे गुर :

प्रतिभा विस्तार का सुदृण करने 200 पर्यटकों के गाइडों के साथ अनुभव साझा किए गए। तकरीबन 20 साल से बांधवगढ़ आ रहे पर्यटकों से लिखित में यह जानकारी मांगी गई थी। प्राप्त सुझाव गाइडों को बताए तथा आवश्यक सुधार के क्षेत्र में ज्ञान दिया गया। इसके अलावा सफारी में दुर्घटना से बचाव के लिए प्राथमिक उपचार तथा सर्प पकडऩे के अहम गुर सिखाए गए। प्रशिक्षण के दौरान कोर व बफर जोन के सभी गाइड शामिल हुए। अलग-अलग मास्टर ट्रेनरों द्वारा वाइल्ड लाइफ  बाघ, हाथी व अन्य महत्वपूर्ण विषय पर जानकारी दी गई। मास्टर ट्रेनरों में लोकल कंजरवेसिंष्ट पुष्पेन्द्रनाथ द्विवेदी, एडवोकेट यश कुमार सोनी व दो अन्य विशेषज्ञों ने प्रशिक्षण दिया।

ये रहे मौजूद :

बाधवगढ़ टाइगर रिजर्व में 06 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में कोर और बफर के गाइड के लिये आयोजित कार्यक्रम के समापन समारोह में पार्क के क्षेत्र संचालक विंसेंट रहीम, उपसंचालक सिद्धार्थ गुप्ता, एसडीओ अनिल शुक्ला, एसडीओ मानपुर, पर्यटन प्रभारी बीनू सिंह, धमोखर रेंजर विजय शंकर श्रीवास्तव सहित अन्य स्टॉफ  मौजूद रहा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co