ग्वालियर : पुलिस के सामने ही बाइक में लगा दी आग
जली हुई खड़ी गाड़ीManish Sharma

ग्वालियर : पुलिस के सामने ही बाइक में लगा दी आग

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : पुलिस वाले रोज चेकिंग के नाम उसे परेशान करते थे। इसलिए पुलिस वालों के सामने ही बाइक में आग लगा दी।

हाइलाइट्स

  • बाइक में पुलिस से परेशान होकर लगाई आग

  • मामला पहुंचा पुलिस के आला अफसरों तक

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। रोज रोज चेकिंग में मजदूर की बाइक रोककर उससे दस्तावेजों की मांग होती थी। कभी कोई कमी तो कभी कोई कमी बताकर चालान कराया जाता था। आए दिन पैसे दे देकर मजदूर इतना परेशान हो गया था कि पुलिस के सामने ही उसने अपनी बाइक में आग लगा दी। अब मामले की शिकायत पुलिस के आला अफसरों तक पहुंच गई है।

सिरौल थाना इलाके की हद में कोमल सिंह सेंगर रहता है। पेशे से मजदूरी करने वाले कोमल को बीती रात को सिरौल थाना पुलिस ने चेकिंग के लिए रोक लिया। बाइक का रजिस्ट्रेशन दिखाने के बाद पुलिस वालों ने उससे बीमा कॉपी मांगी। इस पर कोमल का कहना था कि रोज-रोज उसे चेकिंग के नाम पर कब तक प्रताड़ित किया जाएगा ? वह रोज दस्तावेज दिखाता है लेकिन पुलिस वाले रोज उसे रोक लेते हैं। इस पर दोनों पक्षों में चेकिंग के दौरान बहस हो गई। पुलिस के रोज-रोज रोकने से मजदूर इतना परेशान हो गया था कि उसने माचिस जलाकर पेट्रोल टैंक में आग लगा दी। आग की लपटों से बाइक पुलिस स्टाफ के सामने जलकर खाक हो गई। घटना के बाद मजदूर रोते हुए अपने घर चला गया। इस घटना की इत्तला आसपास के लोगों ने देखी और आज सुबह पुलिस के आला अफसरों से इसकी शिकायत की। पुलिस अफसर अब इस मामले की जांच कर रहे हैं।

क्या रिश्वत के लिये मजदूरी करूं ?

कोमल का कहना है कि मै लॉकडाउन के बाद से रोजी-रोटी के लिये मोहताज हूं। सिरौल थाना मेरे घर के पास ही है। ऐसे में रोज-रोज पुलिस वाले चेकिंग के नाम पर रोककर सौ-दो सौ रुपए ले लेते हैं। मैं रोज मजदूरी कर के काफी कम कमा पाता हूं उसमें से पुलिस को ही दे दूं। इसलिये ऐसी बाइक ही मैंने जला दी जो मैं चला ही ना पाऊं।

एक्शन लिया जाएगा :

घटना को संज्ञान में लेकर पड़ताल कर रहे है। अभी बाइक जलाने वाला मजदूर युवक हमारे पास नहीं आया है। सत्यता जांचने के बाद एक्शन लिया जाएगा।

रत्नेश सिंह तोमर,सीएसपी यूनिवर्सिटी

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co