ग्वालियर : कर्मचारी संगठन की धमकी से डरा जीवाजी विवि प्रबंधन
ग्वालियर : कर्मचारियों की धमकियों से डरा जीवाजी विवि प्रबंधन Manish Sharma

ग्वालियर : कर्मचारी संगठन की धमकी से डरा जीवाजी विवि प्रबंधन

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : जीवाजी विश्वविद्यालय ने 27 कर्मचारियों के मूल पदस्थापना पर वापस भेजने आदेश जारी किया था। लेकिन धमकी के डर से वापस नहीं भेजा।

हाइलाइट्स

  • 27 कर्मचारियों की सूची हुई थी जारी

  • कर्मचारी संगठन ने मूल पदस्थापना पर भेजने का किया था विरोध

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जीवाजी विश्वविद्यालय के उपकुलसचिव डॉ.आईके मंसूरी ने विगत दिवस एक आदेश जारी किया था। इसमें उन्होंने उल्लेख किया था कि जिन कर्मचारियों की भर्ती चौकीदार पद पर हुई है। वह बाबूगिरी का काम छोड़कर फिर चौकीदारी करेंगे। लेकिन कर्मचारी संगठनों के धमकी के बाद यह मामला रफा-दफा हो गया है।

जेयू में प्रभारी कुलसचिव का प्रभार रहते हुए उपकुलसचिव डॉ.आईके मंसूरी ने एक आदेश जारी किया था। इसमें उन्होने बताया था कि कुलपति प्रो.संगीता शुक्ला के निर्देशानुसार चौकीदार पद पर भर्ती हुए कर्मचारी अब बाबूगिरी का काम छोड़कर चौकीदारी करेंगे। साथ ही चेतावनी दी है थी कि यदि तीन दिवस के अंदर अपनी उपस्थिति नवीन पदस्थापना पर नहीं दी जाती तो आपका वेतन रोकने की कार्रवाई की जाएगी। ऐसे कुल 27 चौकीदारों की सूची जारी की थी। यह सूची जारी होते ही कर्मचारी संगठन इसके विरोध में उतर आए थे। साथ ही उन्होंने प्रभारी कुलसचिव को धमकी दी थी कि यदि कर्मचारियों का वेतन रोका गया तो हम काम बंद कर हड़ताल पर चले जाएंगे।

कर्मचारी संगठनों की इस धमकी से जीवाजी विवि प्रबंधन डर गया। किसी भी कर्मचारी ने आज दिनांक तक अपने मूल पदस्थापना पर ज्वाईनिंग नहीं की है। वह अभी भी चौकीदारी का काम छोड़कर बाबूगिरी कर रहे हैं।

कर्मचारी संगठन ने यह रखी थी मांग :

प्रशासनिक भवन के गोपनीय व प्रशासन भवन में कार्यरत सर्विस प्रोवाईडर, सेल्फ फाइनेंस , लैब टेक्निशियन, लैब अटेण्डर और बुक लिफ्टर कर्मचारियों को उनके मूल विभाग में भेजे। जब तक इन सभी कर्मचारियों का मूल विभाग में स्थानांतरण नहीं होता ये 27 कर्मचारी अपनी मूल विभाग(सुरक्षा विभाग) में उपस्थिति दर्ज नहीं कराएंगे।

इन्हे भेजा था मूल पदस्थापना में :

विवि प्रबंधन ने रामरतन, धनराज वर्मा, किशोर सिंह, सलामत खां, जगदीश पाल, फार्मेसी, नारायण राजौरिया, नाथूसिंह, रणजीत राजपूत, दलबहादुर थापा, भुजबल सिंह, सुल्तान, रामभजन, विद्याराम, मुनेश सिंह, आजाद खां, हमीद खां, अमर सिंह, मुनेश पाल, सुरेश रजक, रमेश अहिरवार, जयराम, बब्लू खांन, राखीराम भगत, सूरज माहौर, कविता सोनी व राजू बाथम को मूल पदस्थापना पर वापस भेजा था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co