Gwalior : 15 अगस्त के 10 दिन शेष, अभी तक शिफ्ट नहीं हुआ अधीक्षक कार्यालय

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : 15 अगस्त के 10 दिन शेष बचे हैं। लेकिन अभी तक जयारोग्य अस्पताल अधीक्षक का कार्यालय शिफ्ट नहीं हुआ है।
15 अगस्त के 10 दिन शेष, अभी तक शिफ्ट नहीं हुआ अधीक्षक कार्यालय
15 अगस्त के 10 दिन शेष, अभी तक शिफ्ट नहीं हुआ अधीक्षक कार्यालयShahid - RE

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। 15 अगस्त के 10 दिन शेष बचे हैं। लेकिन अभी तक जयारोग्य अस्पताल अधीक्षक का कार्यालय शिफ्ट नहीं हुआ है। इस कार्यालय को जल्दी शिफ्ट करने के लिए कई बार संभागायुक्त आशीष सक्सेना बोल चुके हैं। उसके बाद भी यह कार्यालय अभी तक शिफ्ट नहीं हुआ। जबकि संभागायुक्त की इच्छा है कि 15 अगस्त से पहले यह कार्यालय शिफ्ट हो जाए। लेकिन उनकी यह मंशा पूरी होती नहीं दिख रही।

पॉटरीज की जमीन पर निर्माणाधीन हजार बिस्तर अस्पताल का कुछ हिस्सा बनकर तैयार हो गया है। इसमें जयारोग्य अस्पताल के कुछ विभाग और अधीक्षक कार्यालय शिफ्ट होना है। अधीक्षक कार्यालय और विभागों को शिफ्ट करने के लिए संभागायुक्त आशीष सक्सेना कई बार डीन डॉ.अक्षय निगम और अधीक्षक डॉ.आरकेएस धाकड़ को निर्देश दे चुके हैं। लेकिन उनके आदेश का पालन होता नहीं दिख रहा है। 15 अगस्त के सिर्फ 10 दिन ही शेष बचे हैं। काम की गति को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसी भी हालत में यह कार्यालय दस दिन के अंदर शिफ्ट नहीं हो सकता।

यहां बता दें कि संभागायुक्त की इच्छा है कि 15 अगस्त से पहले यह कार्यालय शिफ्ट हो जाए। लेकिन उनकी यह मंशा पूरी होती नहीं दिख रही। वहां बैठक करने के लिए एक कक्ष जरूर तैयार कर लिया है।

15 अगस्त तक विभाग नहीं हो पाएंगे शिफ्ट :

संभागायुक्त की हजार बिस्तर अस्पताल में रूचि को देखकर अंदाजा लगया जा रहा था कि 15 अगस्त तक कुछ विभाग हजार बिस्तर में शिफ्ट हो जाएंगे। लेकिन प्रबंधन की कछुआ गति चाल से यह स्पष्ट होता है कि यह अब संभव नहीं है।

पीआईयू को दिया था 10 दिन का समय :

बैठक करने की जगह संभागायुक्त आशीष सक्सेना ने गत दिवस हजार बिस्तर अस्पताल का निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान उन्होंने पीआईयू अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त करते हुए कार्य को दस दिन में खत्म करने के निर्देश दिए थे। लगभग वह समय भी पूरा हो चला, लेकिन पीआईयू तीन ब्लॉकों के काम को भी खत्म नहीं कर पाया है। अब देखना है कि संभागायुक्त लापरवाह पीआईयू अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई करेंगे या नहीं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co