1500 नहीं 1097 पलंग का है पॉटरीज फैक्ट्री की जमीन पर बना अस्पताल
1500 नहीं 1097 पलंग का है पॉटरीज फैक्ट्री की जमीन पर बना अस्पतालRaj Express

Gwalior : 1500 नहीं 1097 पलंग का है पॉटरीज फैक्ट्री की जमीन पर बना अस्पताल

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : केबिनेट बैठक में बेड नहीं सिर्फ राशि बढ़ाने के प्रस्ताव पर लगी थी मौहर। प्रबंधक बोले- हजार बिस्तर अस्पताल में सिर्फ 1097 बेड डालने की है क्षमता।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। पॉटरीज फैक्ट्री की जमीन पर निर्माणाधीन अस्पताल में 1500 नहीं 1097 मरीज भर्ती करने की क्षमता है। जीआर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के अनुसार मंत्रि परिषद की बैठक में 1000 बिस्तरीय अस्पताल के लिये पूर्व में जारी प्रशासकीय स्वीकृति राशि 338 करोड़ 46 लाख रूपये के स्थान पर राशि 397 करोड़ 5 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। 1097 पलंग वाले अस्पताल को 1500 बिस्तर का बताया जा रहा है। वह बिल्कुल गलत है।

15 जुलाई 2022 को भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि परिषद की बैठक हुई थी। बैठक में एक हजार बिस्तरीय अस्पताल के लिये पूर्व में जारी प्रशासकीय स्वीकृति राशि 338 करोड़ 46 लाख रूपये के स्थान पर राशि 397 करोड़ 5 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान करने का प्रस्ताव रखा गया था। जिसे केबिनेट ने मंजूरी प्रदान कर दी थी। लेकिन बैठक में अस्पताल के पलंगों को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई और ना ही जीआर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के पास पलंगों की संख्या बढ़ाने को कोई निर्देश-आदेश आया है।

1500 नहीं 1097 बिस्तर का है ये अस्पताल :

जीआर मेडिकल कॉलेज के अधिष्ठाता डॉ. अक्षय निगम ने बताया कि लगभग तैयार हो चुके एक हजार बिस्तरीय अस्पताल में 1097 मरीजों को भर्ती करने की सुविधा है। जो लोग इस अस्पताल में 1500 मरीज भर्ती करने की बात और बिस्तरों की संख्या में वृद्धि का फैसला केबिनेट का बता रहे हैं, वह बिल्कुल गलत है। हां, यह बात सही है कि मंत्रि परिषद की बैठक में एक हजार बिस्तरीय अस्पताल के लिये स्वीकृति राशि 338 करोड़ 46 लाख रूपये के स्थान पर राशि 397 करोड़ 5 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान करने पर चर्चा हुई थी। इसे स्वीकृती मिल चुकी है।बिस्तरों की संख्या में वृद्धि करने का अभी तक कोई आदेश-निर्देश नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में 1097 से अधिक मरीज भर्ती नहीं किये जा सकते।

फैक्ट फाइल :

  • राजकोट गुजरात की मेसर्स जे.पी. स्ट्रक्चर्स प्रा. लि. कम्पनी हजार बिस्तर अस्पताल को तैयार करने में जुटी हुई है।

  • कम्पनी को 12 माह में 400 बिस्तर और 18 महीने में 600 बिस्तर कुल मिलाकर एक हजार बिस्तर का अस्पताल तैयार करके जीआर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को सौंपना था।

  • कम्पनी ने जीआर मेडिकल कॉलेज को एक पत्र लिखा है। इसमें अस्पताल 22 सितम्बर 2022 को हैण्डओवर करने की बात कही है।

  • अस्पताल का शिलान्यास केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 5 मार्च 2019 को कांग्रेस सरकार में किया था।

  • अस्पताल तैयार करने का 338 करोड़ 46 लाख का था प्रोजेक्ट। अब वह 397 करोड़ 5 लाख पर पहुंचा।

  • निर्माण कार्य में जुटी कम्पनी पर प्रतिदिन लग रहा 1 करोड़ का जुर्माना।

शुभारंभ कार्यक्रम में आयेंगे सीएम और मंत्री :

एक हजार बिस्तर वाला अस्पताल केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की महत्वकांक्षी योजना है। यह अस्पताल बनकर लगभग तैयार हो चुका है। इस अस्पताल को आम लोगों के लिए शुरू करने की कवायद शुरू हो गई है। इसका शुभारंभ संभवत: अक्टूबर में हो सकता है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित कई अन्य मंत्री तक शामिल होंगे।

इनका कहना है :

पॉटरीज फैक्ट्री की जमीन पर लगभग तैयार हो चुके अस्पताल में 1097 मरीज भर्ती करने की क्षमता है। इस अस्पताल को 1097 की जगह 1500 बिस्तर की जाने की बात कही जा रही है जो कि बिल्कुल गलत है। हां, मंत्रि परिषद की बैठक में राशि बढ़ाने के प्रस्ताव पर जरूर मौहर लगी थी। अस्पताल तैयार हो जाने के बाद हम सभी विभागों में लगभग 2200 मरीजों को भर्ती कर सकेंगे।

डॉ.अमित निरंजन, जनसम्पर्क अधिकारी, जीआर मेडिकल कॉलेज

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co