Gwalior : 23 दिन में मिले डेंगू के 267 नए मरीज, कारण-शहर में जगह-जगह जल भराव
23 दिन में मिले डेंगू के 267 नए मरीजसांकेतिक चित्र

Gwalior : 23 दिन में मिले डेंगू के 267 नए मरीज, कारण-शहर में जगह-जगह जल भराव

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : इस वर्ष मलेरिया से ज्यादा डेंगू का मच्छर सक्रिय है। पिछले 23 दिनों में यानि 7 से 30 सितम्बर तक शहर के अंदर 267 डेंगू के मरीज सामने आ चुके हैं।

हाइलाइट्स :

  • मलेरिया से ज्यादा डेंगू का मच्छर सक्रिय : घर-घर में बुखार, जुकाम के मरीज।

  • मलेरिया की तुलना में डेंगू के चार गुना मरीज मिले, बढ़ रहा खतरा।

  • -जिले में अब तक डेंगू के मिले 303 मरीज।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। इस वर्ष मलेरिया से ज्यादा डेंगू का मच्छर सक्रिय है। पिछले 23 दिनों में यानि 7 से 30 सितम्बर तक शहर के अंदर 267 डेंगू के मरीज सामने आ चुके हैं। इसके पीछे स्वास्थ्य विभाग नगर निगम पर ठीकरा फोड़ रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि शहर में हर जगह जलभराव हो रहा है। गंदे पानी की निकासी की उचित व्यवस्था नहीं है। इससे डेंगू के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। जिले में अब तक डेंगू के 303 मरीज मिल चुके हैं।

यहां बता दें कि जिले में अब तक डेंगू के 294 मरीज सामने आ चुके हैं। यानि इस बार मलेरिया की तुलना में डेंगू के चार गुना मरीज सामने आ चुके हैं। वहीं वायरल फीवर के मरीज घर-घर देखे जा रहे हैं। जेएएच और जिला अस्पताल के मेडिसिन वार्ड और चिल्ड्रन वार्ड में मरीजों को पलंग तक नसीब नहीं है। मरीज जमीन में गद्दे बिछाकर अपना उपचार कराने को मजबूर हैं। वहीं निजी नर्सिंग होम और क्लीनिकों पर भी सर्दी, खांसी, जुकाम और बुखार के मरीजों की भीड़ उमड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि शहर के प्रत्येक गली मौहल्ले में जलभराव हो रहा है, इससे मच्छरों का लार्वा पनप रहा है। लोग लगातार बीमार हो रहे हैं, जबकि मच्छरों को मारने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास नहीं किये जा रहा।

सुबह या शाम को काटता है मलेरिया का मच्छर :

जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया कि अगस्त से अक्टूबर तक मच्छरों का प्रजनन काल रहता है। मलेरिया मादा मच्छर एनाफिलीज के काटने से होता है। जबकि डेंगू एडीजे मच्छर के काटने से होता है। इन दोनों मच्छरों के काटने का समय भी अलग-अलग है। मलेरिया का मच्छर सुबह और शाम के वक्त काटता है। दोपहर के समय यह निष्क्रय रहता है। वहीं डेंगू का मच्छर सिर्फ दोपहर के समय ही काटता है। साथ ही डेंगू का मच्छर रूके हुए पानी में ही पनपता है।

यह बरतें सावधानी :

  • अपने घर में और आसपास कूलर, एसी, गमलों और टायर आदि में पानी जमा न होने दें।

  • पानी की टंकियों को सही तरीके से ढक कर रखे।

  • खिड़की और दरवाजों में जाली लगवाएं।

  • दिन में दो बार घर के सभी कोनों में काले हिट का छिड़काव करें।

  • एक मच्छर भी आपको डेंगू का मरीज बना सकता है, इसलिए मच्छरों को मारने में देरी न करें।

  • अगर लगातार बुखार आ रहा हो और डेंगू के लक्षण दिख रहे हों, तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें।

शहर में फिर निकले 9 संक्रमित :

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय के माइक्रोबायलॉजी विभाग में डेंगू के संदिग्ध मरीजों की जांच की गई। इसमें कुल 15 लोगों को डेंगू होने की पुष्टि हुई है। संक्रमितों में 9 शहर के व 6 मरीज अन्य जिलों के हैं। डेंगू से संक्रमितों मरीजों का उपचार जारी है। जिले में अब तक डेंगू के 303 मरीज मिल चुके हैं।

इनका कहना है :

डेंगू की रोकथाम के लिए हर संभव से संभव प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए शहरवासियों को भी जागरूक होना पड़ेगा। घरों के आसपास सफाई रखें और गंदा पानी जमा न होने दें।

डॉ.मनीष शर्मा, सीएमएचओ

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co