जीआरएमसी की जांच में 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टि
जीआरएमसी की जांच में 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टिSocial Media

Gwalior : जीआरएमसी की जांच में 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टि

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : जिले में डेंगू मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। जीआर मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में मंगलवार को 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टि हुई है।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जिले में डेंगू मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। जीआर मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में मंगलवार को 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टि हुई है। अगर जिला अस्पताल में भी जांच होती तो यह संख्या 50 के पार होती। डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ने से अब जम्बो प्लेटलेट्स की मांग भी बढ़ गई है। शहर के शासकीय ब्लड बैंक से लेकर निजी ब्लड बैंक में दिन रात प्लेटलेट्स निकालने का काम चल रहा है।

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय की माइक्रोबायोलॉजी लैब में बुखार से पीड़ित 98 मरीजों की जांच की गई। जांच रिपोर्ट मं 41 मरीजों को डेंगू होने की पुष्टि हुई है। जिसमें 25 ग्वालियर व अन्य जिलों के शामिल हैं। इसमें ग्वालियर निवासी 11 वर्षीय मान्या, 7 वर्षीय पुष्पराज, 10 वर्षीय अद्विक, 4 वर्षीय अंकिता, 22 वर्षीय वंदना, 38 वर्षीय संगीता, 11 वर्षीय निशित शर्मा, 12 वर्षीय मनोज सिंह, 11 वर्षीय प्रतिष्ठा, 64 वर्षीय रनवीर, 22 वर्षीय हिमांशू, 12 वर्षीय गोविन्द सिंह, 10 वर्षीय आयुष, 62 वर्षीय ऊषा, 12 वर्षीय अंश, 11 वर्षीय उन्नति, 27 वर्षीय दिव्या, 24 वर्षीय रचना, 65 वर्षीय कैलाशचंद, 17 वर्षीय खुशी, 51 वर्षीय एस.के. तिवारी, 6 वर्षीय जानवी, 19 वर्षीय चंदन, 10 वर्षीय अलीम एवं 06 वर्षीय आजम शामिल हैं। इसके अलावा मुरैना से 11 सहित भिण्ड, छतरपुर, इटावा, वाराणसी एवं शिवपुरी से एक-एक शामिल हैं। मलेरिया अधिकारियों का कहना है कि डेंगू संक्रमित 41 मरीजों में से 34 मरीज विभन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। इसमें दो मरीज शिवजी चिकित्सालय, पांच मंगल नर्सिंग होम, 14 बीआईएमआर, दो केडीजे सहित अन्य मरीज शहर के विभिन्न निजी अस्पतालों में भर्ती हैं।

बुखार आने पर घबराएं नहीं, खूब पीएं पानी :

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा ने बताया कि इन दिनों साफ सफाई रखने की विशेष आवश्यकता है।घरों पर पानी ठहरने न दें और यदि पानी ठहराव की जरूरत है तो उसे ढंक कर रखें। बताया जा रहा है कि बुखार आने व डेंगू ग्रसित मरीज को शरीर पर सरसों का शुद्ध तेल लगाना चाहिए। इससे मच्छर नहीं काटेंगे, यदि डेंगू ग्रसित व्यक्ति के काटने के बाद मच्छर काटता भी है तो डेंगू नहीं होगा। बुखार आने पर पैरासीटामॉल की दवा लें और नजदीक के अस्पताल में चिकित्सक को जरूर दिखाएं। बुखार ग्रसित व्यक्ति को पानी का सेवन अधिक करना चाहिए, ओआरएस का घोल पीएं। बताया कि घरों में लोगों को जागरूक करने के लिए आशाओं को लगाया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co