Gwalior : सिंधिया समर्थकों को एडजस्ट करना भाजपा के लिए चुनौती
सिंधिया समर्थकों को एडजस्ट करना भाजपा के लिए चुनौतीSocial Media

Gwalior : सिंधिया समर्थकों को एडजस्ट करना भाजपा के लिए चुनौती

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : मूल भाजपाईयों को अगर टिकट से रखा वंचित तो कर सकते है विरोध। अपने सर्मथको को टिकट दिलाने का सिंधिया का रहेगा प्रयास।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। भाजपा में इस समय केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की हर बात को गंभीरता से लेकर उसे पूरा करने का काम किया जा रहा है, लेकिन अब नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा के सामने सिंधिया समर्थको को एडजेस्ट करने की खासी चुनौती रहेगी। इसके पीछे कारण यह है कि काफी संख्या में समर्थक सिंधिया के साथ भाजपा में आए थे और अब वह निकाय चुनाव में टिकट की मांग अपने नेता से कर रहे है ऐसे में अगर उनके समर्थको को टिकट दिया जाता है तो मूल भाजपाई वंचित रह सकते है जिससे पार्टी को वह नुकसान पहुंचा सकते है।

नगर निगम में 66 वार्ड है और हर वार्ड में सिंधिया समर्थक मौजूद है, ऐसे में भाजपा के सामने यह दिक्कत आ रही है कि आखिर वह किसको टिकट दें। नगरीय निकाय चुनाव का ऐलान होने के बाद से ही सिंधिया समर्थक अपने नेता के यहां टिकट दिलाने के लिए गुहार लगा चुके है। सूत्रो का कहना है कि समर्थको को भरोसा दिलाया गया है कि आपका मान रखने का प्रयास किया जाएगा, लेकिन भाजपा में टिकट संगठन के हिसाब से तय होते है ऐसे में संभावना है कि भाजपा जिलाध्यक्ष सिंधिया समर्थको को मौका दे सकते है, क्योंकि भाजपा जिलाध्यक्ष की सिंधिया के साथ जिस तरह से नजदीकियां बढ़ी है उसके कारण भाजपा के अंदर ही इस बात की चर्चा है जिसके सहारे पद मिला अब उन्ही से किनारा कर लिया है।

भाजपाई वंचित रहे तो कर सकते है नुकसान :

मूल भाजपाई अगर पार्षद टिकट से वंचित रहते है तो वह पार्टी को नुकसान पहुंचा सकते है, क्योंकि भाजपा के अंदरखाने से जो खबर निकलकर आ रही है उसके मुताबिक भाजपा के कुछ नेताओ ने एक रणनीति तैयार की जिसके तहत वह निकाय चुनाव में काम कर पार्टी को नुकसान पहुंचा कर एक संदेश देना चाहते है कि अगर मूल भाजपाईयों को उपेक्षित किया गया तो आगे भी इसी तरह से काम किया जाएगा। अब सूत्र की बात में कितना दम है यह तो निकाय चुनाव के परिणाम आने पर पता चलेगा, क्योंकि भाजपा के अंदर विरोध की बात तो की जाती है, लेकिन खुलकर कोई सामने नहीं आता है। जिस समय कमल माखीजानी को अध्यक्ष बनाया गया था तो उनका भी जमकर विरोध किया गया था, लेकिन बाद मे सभी विरोध करने वाले भाजपाई खामोश हो गए थे और माखीजानी के नेतृत्व को स्वीकार कर लिया था।

कल फिर दिखेगी समर्थको को भीड़ :

निकाय चुनाव में अपने समर्थको को टिकट दिलाने का प्रयास केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कर सकते है, क्योंकि समर्थक ही उनकी पूंजी है। यही कारण है कि वह 9 जून को वाया भोपाल होते हुए ग्वालियर आएंगे। सूत्र का कहना है कि सिंधिया भोपाल में अपने समर्थको को पार्षद टिकट दिलाने की सूची बनाकर संगठन को दे सकते है। वहीं शाम को जब वह ग्वालियर आएंगे तो समर्थक उनके सामने एक बार फिर अपने लिए टिकट दिलाने की मांग कर सकते है। अब भाजपा के अंदर संकट इस बात को लेकर है कि अगर सिंधिया समर्थको को एडजेस्ट किया तो मूल भाजपाई नाराज हो सकते है और अगर सिंधिया समर्थको को नजर अंदाज किया तो फिर उनकी नाराजगी झेलना पड़ सकती है। सूत्रों का यह भी कहना है कि ग्वालियर निकाय चुनाव में सिंधिया को खासी तवज्जो दी जाएगी और उनके समर्थको को भी एडजेस्ट किया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co