Gwalior : व्यवस्थाएं हुईं फेल, हाईवे से लेकर शहर तक हर तरफ लगा जाम
व्यवस्थाएं हुईं फेल, हाईवे से लेकर शहर तक हर तरफ लगा जामRaj Express

Gwalior : व्यवस्थाएं हुईं फेल, हाईवे से लेकर शहर तक हर तरफ लगा जाम

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : रैली के दौरान जाम की स्थिति न बने इसे लेकर वरिष्ठ अधिकारियों ने बड़ी तैयारियां की थीं लेकिन, यह तैयारी मौके पर फेल साबित हुई।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की रैली को लेकर एक सप्ताह से प्रशासन तैयारी कर रहा था। रैली के दौरान जाम की स्थिति न बने इसे लेकर वरिष्ठ अधिकारियों ने बड़ी तैयारियां की थीं, लेकिन यह तैयारी मौके पर फेल साबित हुई। हालात यह हुए कि मुरैना से लेकर पुरानी छावनी तक एवं बहोड़ापुर से जयविलास पैलेस तक हर तरफ जाम लगा रहा। कई घंटों तक हजारों लोग जाम में फंसे रहे। यह स्थिति पुलिस अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर रही है।

शहर में जब भी किसी बड़े राजनेता की रैली या कार्यक्रम आयोजित होता है तो अधिकारियों को कई स्तर पर प्लानिंग की जिम्मेदारी सौंपी जाती है। कार्यक्रम या रैली के चलते आम जनता परेशान न हो यह मंशा सरकार की होती है लेकिन हर बार रणनीति फेल साबित होती है। अधिकारी खाना पूर्ति करते हुए बैठकों में तैयारी दर्शाते हैं जबकि हकीकत में कई घंटों तक हजारों लोग परेशान होते दिखते हैं। यही स्थिति बुधवार को केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की रैली में दिखाई दी। केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद पहली बार ग्वालियर आए ज्योतिरिादित्य सिंधिया की स्वागत रैली मुरैना से शुरू हुई। चंबल नदी के पुल पर केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने ज्योतिरादित्य का स्वागत किया और वहीं से सैकड़ों गाडिय़ों का खाफिला ग्वालियर के लिए निकला। इस दौरान हाईवे पर हजारों वाहन जाम में फंसे रहे। पुलिस की पूरी प्लानिंग फेल हो गई। ग्वालियर में रैली की शुरूआत निरावली पुल से होना थी और यहां सैकड़ों की संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा। लेकिन वाहनों की संख्या का अनुमान गलत होने पर पूरी प्लानिंग धरी रह गई। रैली शुरू होते ही सभी सड़कों पर वाहन आ गए जिससे जाम की स्थिति पैदा हो गई। यह हालत बहोड़ापुर से शहर में घुसने से लेकर जयविलास पैलेस तक पहुंचे एवं महाराज बाड़े से वापसी तक बने रहे। रैली को देखते हुए पुलिस द्वारा कई जगह सड़क बंद की थी ताकि जाम की स्थिति न बने। लेकिन सारी तैयारी धरी रह गई।

जगह सड़क की बंद, लगाए बेरीकेट्स :

रैली के दौरान आम जनता के वाहन रोकने के लिए पुलिस ने 21 जगहों पर सड़क बंद करते हुए बेरीकेट्स लगा दिए थे। रैली से कुछ देर पहले वाहनों का आवाजाही रोक दी थी। साथ ही रूट बदल दिए थे लेकिन पुलिस का अनुमान पूरी तरह गलत साबित हुआ। रैली में जितने वाहनों का अनुमान था उससे पांच गुना अधिक वाहन रैली में शामिल थे। हालात थे कि सिंधिया जब नदी गेट चौराहे पर पहुंच गए थे तब भी रैली में शामिल वाहनों की कतार हनुमान चौराहे तक लगी थी।

इन जगहों पर हालात हुए बुरे :

  • निरावली पुल पर चारों तरफ जाम लगा था। हजारों वाहन जाम में फंसे रहे।

  • बहोड़ापुर पर एक घंटे तक जाम में फंसे लोग, पुलिस ने की मशक्कत।

  • शिंदे की छावनी पर तीन घंटे तक जाम के हालात बने रहे।

  • इंदरगंज चौराहे पर दो घंटे वाहन जाम में फंसे रहे।

  • नदीगेट चौराहे पर सिंधिया का काफिला पहुंचने के बाद पुलिस ने वाहनों की आवाजाही बंद की, इससे फूलबाग चौराहा, जलविहार, मोती महल, एलआईसी चौराह, एजी ऑफिस पुल रोड सहित अन्य सड़कों पर दो किलोमीटर तक जाम लगा रहा।

इन जगहों पर पुलिस ने लगाए थे बेरीकेट्स :

जेल रोड रेलवे क्रॉसिंग, शिंदे की छावनी नौगजा रोड, शिंदे की छावनी पेट्रोल पंप से नौगजा रोड, डीडी मॉल एवं गुरूद्वारा रोड, शिंदे की छावनी से छप्परवाला पुल, रोशनी घर से अचलेश्वर मंदिर रोड, दाल बाजार, जिंसी का नाला, काजल टॉकीज तिराहा, लोहिया बाजार, राम मंदिर चौराहा, कैलास टॉकीज रोड, हुजरात रोड, चिटनिश की गोठ, गोरखी स्काउड, गश्त का ताजिया एवं सराफा बाजार रोड, नई सड़क से गश्त का ताजिया रोड।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.