सभापति के लिए भाजपा हुई सक्रिय, अपने पार्षदों की करेगी बाड़ाबंदी
सभापति के लिए भाजपा हुई सक्रिय, अपने पार्षदों की करेगी बाड़ाबंदीRaj Express

Gwalior : सभापति के लिए भाजपा हुई सक्रिय, अपने पार्षदों की करेगी बाड़ाबंदी

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : भाजपा के 34 पार्षद आज रवाना होंगे दिल्ली, 4 अगस्त की शाम को लौटेंगे। भाजपा को अपने पार्षद टूटने का सता रहा है डर।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। नगर निगम में महापौर कांग्रेस को जनता ने चुना, लेकिन भाजपा को बहुमत बॉर्डर पर मिला है जिसके कारण सभापति चुनाव में भाजपा को अपने ही पार्षदों के टूटने का डर सता रहा है। यही कारण है कि अब प्रदेश नेतृत्व से निर्देश मिलने के बाद भाजपा के बड़े नेता ग्वालियर नगर निगम में अपना सभापति बनाने के लिए सक्रिय हो गए है और ऐसे में वह सबसे पहले अपने ही पार्षदों की बाड़ाबंदी करने का काम कर रहे है। मंगलवार को भाजपा के पार्षदों को दिल्ली के लिए रवाना कर दिया जाएगा जो 4 अगस्त को वापिस लौटेंगे, क्योंकि 5 अगस्त को सभापति के लिए चुनाव होना है।

नगर निगम ग्वालियर में 66 पार्षद है जिसमें से 34 पार्षद भाजपा के चुनकर आएं है तो कांग्रेस के 25 पार्षद चुने गए है। कांग्रेस ने परिणाम आने के बाद ही 3 निर्दलीय पार्षदों को अपने दल में शामिल कर संख्या बल को 25 से बढ़ाकर 28 कर लिया है और जो बाकी निर्दलीय पार्षद है उनसे भी बातचीत होने की बात कांग्रेस नेता कह रहे है और दावा कर रहे है कि इस बार कांग्रेस का ही सभापति होगा। इस दावे के बाद भाजपा की चिंता बढ़ गई, क्योंकि अभी तक भाजपा के किसी भी बड़े नेता ने सभापति अपने दल का बनाने के लिए कोई कसरत शुरू नहीं की थी, लेकिन प्रदेश नेतृत्व से निर्देश मिलने के बाद अब भाजपा के बड़े नेता सक्रिय हो गए है और सबसे पहले वह अपने ही दल के 34 पार्षदों को एकजुट रखने का प्रयास कर रहे है। भाजपा को इस बात का डर सता रहा है कि महापौर के पति विधायक सतीश सिकरवार लम्बे समय तक भाजपा में रहे है और निगम में पार्षद लगातार रहते आएं है ऐसे में उनकी नजर जरूर भाजपा के कुछ पार्षदों पर होगी और भाजपा के लोग यह भी जानते ही आंकड़ेबाजी के खेल में कांग्रेस के अंदर सतीश फिलहाल भारी साबित हो रहे है, जिसके कारण भाजपा का चिंता बढ़ना स्वाभाविक है। यही कारण है कि अब भाजपा नेता अपने पार्षदों को एक साथ रखने और कांग्रेस नेताओ के संपर्क से दूर रखने के लिए दिल्ली जाने की तैयारी कर रहे है।

शपथ होने के बाद भाजपा पार्षदों को पहुंचे निर्देश :

सोमवार को महापौर व सभी 66 पार्षदों की शपथ ग्रहण समारोह होने के बाद एकाएक भाजपा नेता सक्रिय हो गए। सोमवार शाम तक भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी व महामंत्री हरीश मेवाफरोस ने भाजपा पार्षदों को फोन कर यह सूचना दी कि वह दिल्ली जाने की तैयारी करें और मंगलवार सुबह भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी के निवास पर एकत्र हो। इस सूचना के बाद भाजपा के पार्षदों ने तैयारी शुरू कर दी है, क्योंकि मंगलवार को सुबह उनको ग्वालियर से दिल्ली के लिए रवाना कर दिया जाएगा। अपने दल के पार्षदों की बाड़ाबंदी करने के पीछे मुख्य कारण यह है कि भाजपा नेताओ के पास जो जानकारी पहुंच रही है उसके मुताबिक भाजपा के कुछ पार्षद सभापति चुनाव में खिसक सकते है, यही कारण है कि भाजपा नेता अपने पार्षदों का संपर्क कांग्रेस नेताओ से तोड़ना चाहते है। सूत्रों का कहना है कि दिल्ली में भाजपा के पार्षदों के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा के अलावा केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर व ज्योतिरादित्य सिंधिया मुलाकात कर उनको एकजुट रहने का मंत्र देकर सभापति भाजपा का बनाने का गणित बैठाएंगे।

भाजपा पार्षदों की बाड़ाबंदी की सूचना से कांग्रेस भी हुई सक्रिय :

भाजपा पार्षदों की बाड़ाबंदी की जानकारी लगने के बाद कांग्रेस नेता भी सक्रिय हो गए और सोमवार को ही उन्होंने अपने भरोसे के भाजपा पार्षदों से बात भी कर ली है। सूत्रों का कहना है कि भाजपा के कुछ पार्षदों ने कांग्रेस नेताओ को भरोसा दिलाया है कि भले ही वह दिल्ली जा रहे है, लेकिन सभापति के चुनाव में सहयोग करने की कौशिश करेंगे। अब इस बात मे कितनी सच्चाई है यह तो सभापति चुनाव के समय ही पता चलेगा, लेकिन यहां कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है, बल्कि भाजपा को खोने का डर सता रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co