Gwalior : सभापति बनाने की रणनीति के लिए कांग्रेस पार्षदों की हुई बैठक

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : प्रदेश कोषाध्यक्ष अशोक सिंह बोले सभापति कांग्रेस का ही बनेगा। पार्षदों की राय जानी ओर कहा कोई दिक्कत हो तो बताएं।
सभापति बनाने की रणनीति के लिए कांग्रेस पार्षदों की हुई बैठक
सभापति बनाने की रणनीति के लिए कांग्रेस पार्षदों की हुई बैठकRaj Express

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। 57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस की महापौर 1 अगस्त को शपथ लेगी उसको देखते हुए शनिवार को होटल सेन्ट्रल पार्क में कांग्रेस पार्षदों की एक बैठक बुलाई गई जिसमें सभापति बनाने के लिए क्या रणनीति होना चाहिए इसको लेकर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक के बाद प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अशोक सिंह ने यह जरूर कहा कि सभापति कांग्रेस का ही बनेगा। बैठक में अशोक सिंह के अलावा शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्र शर्मा, विधायक प्रवीण पाठक, सतीश सिकरवार, महापौर शोभा सिकरवार, प्रदेश महासचिव सुनील शर्मा व नवनिर्वाचित कांग्रेस पार्षद मौजूद थे।

भाजपा जिस तरह से अपने पार्षदों को एकजुट करने में लगी हुई है उसी तरह से कांग्रेस ने भी अब अपने पार्षदों को साधने के साथ ही अन्य पार्षदों पर भी नजर डालना शुरू कर दिया है। शनिवार को हुई बैठक में किसी भी बाहरी व्यक्ति को अंदर जाने की इजाजत नहीं दी गई थी ओर बैठक में कांग्रेस के 25 पार्षद के अलावा 3 निर्दलीय पार्षद पहुंचे थे। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओ ने अपने पार्षदों से कहा कि किसी के बहकावे में नहीं आना है ओर अगर किसी को कोई दिक्कत हो तो वह यहां खुलकर बताएं। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओ ने बैठक में मौजूज पार्षदों से कहा कि आप बताओ कि सभापति कांग्रेस का बनना चाहिए कि नहीं ओर अगर बनना चाहिए तो आप क्या मदद कर सकते है यह भी खुलकर बताएं। इस दौरान कई पार्षदों ने अपने सुझाव दिये, जिस पर वरिष्ठ नेतृत्व ने अमल करने का भरोसा दिलाया साथ ही कहा कि अगर आपके ऊपर कोई दवाब आता है तो चिंता मत करना तत्काल हमें सूचित करें, क्योंकि भाजपा सत्ता के सहारे दवाब बनाने का काम कर सकता है, क्योंकि ऐसा नजारा आप सभी ने जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में प्रदेशभर में देख ही लिया है कि किस तरह से सदस्यों को पुलिस के माध्यम से पकड़कर गायब करा दिया गया था। यहां बता दे कि नगर निगम चुनाव में कांग्रेस के 25 पार्षद चुनकर आएं थे ओर बाद में 3 अन्य निर्दलीय पार्षदों ने कांग्रेस का दामन थाम कर संख्या बल को 28 तक पहुंचा दिया है।

सूत्रों का कहना है कि 3 निर्दलीय व एक बसपा के पार्षद से भी कांग्रेस नेताओ की बात हो गई है ओर वह कांग्रेस को समर्थन कर सकते है। कांग्रेस जिस तरह से सभापति बनाने का दावा कर रही है, उसके चलते भाजपा के अंदर बैचेनी होने लगी है, क्योंकि उनको अपने पार्षदों टूटने का डर सता रहा है, यही कारण है कि भाजपा सिर्फ अपने पार्षदों को एकजुट रखने पर जोर दे रही है, क्योंकि अगर भाजपा के पार्षद एकजुट रहे तो सभापति भाजपा का बनना तय है, लेकिन जिस तरह से बैठक के बाद प्रदेश कोषाध्यक्ष अशोक सिंह ने मीडिया से बात करते हुए दावा किया है कि सभापति कांग्रेस का ही बनेगा उसको देखते हुए भाजपा के कान जरूर खड़े हो गए है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co