शहर में बढ़ते प्रदूषण ने ओपीडी में बढ़ाए गले और चर्म रोग के मरीज
शहर में बढ़ते प्रदूषण ने ओपीडी में बढ़ाए गले और चर्म रोग के मरीजSocial Media

Gwalior : शहर में बढ़ते प्रदूषण ने ओपीडी में बढ़ाए गले और चर्म रोग के मरीज

वायु प्रदूषण की वजह से लोगों को गले में खराश व दर्द जैसी समस्याओं के साथ इंफेक्शन हो रहा है और काफी संख्या में मरीज जेएएच एवं जिला अस्पताल मुरार में उपचार लेने के लिए पहुंच रहे हैं।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। शहर में वायु प्रदूषण में अचानक वृद्धि होने से मरीजों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है, मौसम के दोहरे रूप की वजह से लोग वायरल बीमारियों से तो पीड़ित हो ही रहे हैं। इसके साथ ही बढ़े हुए वायु प्रदूषण की वजह से ईएनटी व चर्मरोग विभाग में मरीजों की संख्या काफी बढ़ गई है। वायु प्रदूषण की वजह से लोगों को गले में खराश व दर्द जैसी समस्याओं के साथ इंफेक्शन हो रहा है और काफी संख्या में मरीज जेएएच एवं जिला अस्पताल मुरार में उपचार लेने के लिए पहुंच रहे हैं। इसी की वजह से मेडिसन रोग विभाग के बाद ईएनटी एवं चर्मरोग विभाग के बाहर मरीजों की लंबी-लंबी लाइने देखी जा सकती हैं।

जयारोग्य अस्पताल की बात की जाए तो माधव डिस्पेंसरी में चलने वाली ओपीडी में ही मंगलवार को 1508 मरीज उपचार लेने पहुंचे। मेडिसिन विभाग में 309 मरीज पहुंचे तो चर्मरोग विभाग 176 मरीज, ईएनटी विभाग में 96 मरीज के साथ ही मेडिसिन विभाग में अस्थमा के मरीज भी बढ़ गए हैं। दूसरी ओर जिला अस्पताल मुरार की बात की जाए तो वायरल के सीजन ने अस्पताल की व्यवस्थाएं की पोल खोलकर रख दी है। यहां पर मेडिसिन विभाग में मरीजों को पलंग नहीं मिल पा रहे हैं।

सीरियस मरीज भेजने पड़ रहे हैं जेएएच :

जिला अस्पताल मुरार में सरकारी सिस्टम की लापरवाही की वजह से मरीजों के साथ ही प्रबंधन भी परेशान हो रहा है।एक महीने से अधिक समय बीत जाने के बाद भी आईसीयू चालू नहीं हो पा रहा है। इसी की वजह से जिला अस्पताल के सीरियस मरीजों को जेएएच में रैफर करना पड़ रहा है।

यह बरतें सावधानी :

  • घर से बाहर जाते समय मास्क का करें प्रयोग।

  • गले में दर्द एवं निगलने में समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

  • दिन एवं रात के तापमान की वजह गर्म कपड़ों का रखे ध्यान।

  • ठंडे पानी एवं पेय पदार्थों के सेवन से बचें।

  • पोल्यूशन कम करने के करें उपाय।

इनका कहना :

मौसम में आए बदलाव की वजह से सामान्य दिनों की तुलना में एक्जिमा के केस बढ़े हुए हैं। हमारे पास कई मरीज इस प्रकार की समस्या लेकर आ रहे हैं। सावधानी से इस प्रकार की बीमारियों से बचा जा सकता है।

डॉ.अनुभव गर्ग, विभागाध्यक्ष चर्म रोग विभाग, जीआर मेडिकल कॉलेज

वायु प्रदूषण व बदले मौसम की वजह से थ्रोट इंफेक्शन के मरीज काफी बढ़ गए है। मेरा यही कहना है कि मास्क का प्रयोग बहुत जरूरी है, इससे आप पोल्यूशन के साथ-साथ वायरल बीमारियों के संक्रमण से भी बच सकते हैं।

डॉ. वीपी नार्वे, विभागाध्यक्ष ईएनटी विभाग, जीआर मेडिकल कॉलेज

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co