करोड़ों के उपकरण खा रहे धूल, मरीज हो रहे परेशान
करोड़ों के उपकरण खा रहे धूल, मरीज हो रहे परेशानRaj Express

जिम्मेदारों की अनदेखी : करोड़ों के उपकरण खा रहे धूल, मरीज हो रहे परेशान

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : जिम्मेदार अधिकारियों की वजह से जिला अस्पताल और सिविल अस्पताल हजीरा में करोड़ों के उपकरण धूल खा रहे हैं। जिला अस्पताल का आईसीयू भी नहीं हुआ शुरू।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जिम्मेदार अधिकारियों की वजह से जिला अस्पताल और सिविल अस्पताल हजीरा में करोड़ों के उपकरण धूल खा रहे हैं। इन दोनों ही अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने के लिए कई संसाधान जुटाए गए, लेकिन इसका लाभ मरीजों को नहीं मिल रहा है। स्वास्थ्य अधिकारी और क्षेत्र के नेता भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे है।

सिविल अस्पताल में कोरोना संक्रमण के दौरान दस पलंग का आईसीयू बनवाया गया है, जिसमें करीब 10 वेन्टीलेटर सहित ऑक्सीजन सप्लाई तक उपलब्ध है। लेकिन उक्त आईसीयू को बने डेढ़ वर्ष से अधिक बीत जाने के बाद भी आज दिन तक शुरू नहीं किया गया। इतना ही नहीं अस्पताल में मरीजों को ऑपरेशन सुविधा मिल सके। इसके लिए अत्याधुनिक ऑपरेशन थ्रिएटर ब्लॉक भी बनाया गया है। जिसमें जनरल सर्जरी, आर्थोपेडिक व ईएनटी के लिए तीन ऑपरेशन थिएटर भी बनाए गए हैं। लेकिन ऑपरेशन की सुविधा भी मरीजों को नसीब नहीं हो पा रही है, क्योंकि यहां के चिकित्सकों का कहना है कि जब तक उन्हें स्टाफ नहीं मिल जाता तब तक यह सुविधाएं मरीजों के लिए शुरू नहीं की जा सकती है। इसके अलावा अस्पताल में पर्याप्त चिकित्सक भी उपलब्ध है। लेकिन काम से बचने के चक्कर में अस्पताल प्रबंधन उक्त सुविधाओं को मरीजों के लिए शुरू ही नहीं करना चहता। वहीं अस्पताल में सेन्ट्रल ऑक्सीजन सप्लाई के लिए ऑक्सीजन प्लांट भी लगाया गया है, जिससे आवश्यकता पड़ने पर मरीजों को ऑक्सीजन दी जा सके। लेकिन आईसीयू के बंद होने से लाखों खर्च कर लगवाए गए ऑक्सीजन प्लांट का लाभ भी मरीजों को नहीं मिल पा रहा है। जबकि प्लांट के मेन्टीनेंस के लिए प्रतिमाह अस्पताल प्रबंधन को करीब 30 से 40 हजार तक खर्च करने पड़ते हैं।

आईसीयू भी नहीं हो सका है शुरू :

जिला अस्पताल मुरार की बात करें तो यहां का आईसीयू भी पिछले डेढ़ माह से बंद पड़ा हुआ है। आईसीयू की फॉल सीलिंग पिछले डेढ़ माह पूर्व गिर गई थी, जिस कारण आईसीयू को बंद कर दिया गया। लेकिन आईसीयू का निर्माण करने वाली एजेंसी ने अभी तक फॉल सीलिंग को ठीक ही नहीं किया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co