ग्वालियर : अतिथि शिक्षकों को मनाने पहुंची मंत्री इमरती देवी

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : मंत्री इमरती देवी ने अतिथि शिक्षकों से आंदोलन खत्म कर वापस घर जाने की अपील करते हुए कहा कि आपकी लड़ाई मैं लडूंगी। अतिथि शिक्षक बोले आपके नेता शांत क्यों हैं?
ग्वालियर : अतिथि शिक्षकों को मनाने पहुंची मंत्री इमरती देवी
अतिथि शिक्षकों को मनाने पहुंची मंत्री इमरती देवीRaj Express

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। नियमितीकरण की मांग को लेकर 2 दिनों से ग्वालियर के फूलबाग मैदान में धरना प्रदर्शन कर रहे अतिथि शिक्षकों को शिवराज सरकार की कैबिनेट मंत्री और सिंधिया समर्थक इमरती देवी मंगलवार को मनाने के लिए पहुंची। उन्होंने अतिथि शिक्षकों को आश्वासन दिया कि उनकी मांगों को लेकर वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात करेंगी।

मंत्री इमरती देवी ने अतिथि शिक्षकों से आंदोलन खत्म कर वापस घर जाने की अपील करते हुए कहा कि आपकी लड़ाई मैं लडूंगी। यहां बता दे कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इन अतिथि शिक्षकों की मांग को लेकर ही सड़कों पर उतरने की बात कही थी जिसके जवाब में तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ से जब मीडिया ने सवाल किया तो था उन्होने कह दिया था कि उतर जाओ सड़क पर कौन ने रोका है। इसी जवाब के बाद सिंधिया ने अपने समर्थक विधायको से इस्तीफा दिलवा कर कांग्रेस सरकार को गिरा दिया था। अतिथि शिक्षको के बीच मंत्री इमरती देवी ने कहा कि नियमित करने का कांग्रेस के वचन पत्र में था, लेकिन नहीं किया तो अब भाजपा इस मामले को गंभीरता से लेकर उनकी मदद करेगी। इस दौरान मंत्री इमरती से पूछा कि 6 माह से भाजपा की सरकार है, लेकिन आपके नेता सिंधिया इस मामले में चुप्पी साधे हुए है? इस सवाल को मंत्री इमरती टाल गईं। वहीं अतिथि शिक्षको ने कहा कि हम लम्बे समय से अपनी लड़ाई लड़ रहे है, लेकिन उनकी मांगो पर कोई भी गंभीरता से विचार नहीं कर रहा है। अब अगर नियमितीकरण नहीं किया गया तो उप चुनाव जिन विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे है वहां अतिथि शिक्षक जाकर भाजपा प्रत्याशी का विरोध करेगें।

अब जो सुनना चाहता है वह बोला जाता है :

आमजनों के बीच मंत्री इमरती देवी द्वारा कहा गया था कि कलेक्टर चाहेगें तो कोई भी सीट भाजपा की निकल जाएगी और मैं अगर भारी बहुमत से जीती तो उप मुख्यमंत्री बन सकती हूं? इस सवाल को जब मीडिया ने इमरती से पूछा तो उन्होने कहा कि अब ऐसी बाते चुनावी सभाओं में कहना पड़ती है, क्योंकि जो जनता सुनना चाहती है उसी के हिसाब से हमें बोलना पड़ता है।

अंडा दिए जाने के बयान पर बदले स्वर :

मंत्री इमरती देवी अब कह रही हैं कि अंडे से बेहतर दूध होता है, क्योकि दूध ज्यादा पोषण होता है इसलिए आंगनवाड़ी केंद्र में कुपोषित बच्चों को दूध दिया जाएगा। जबकि इन्ही मंत्री ने पहले कहा था कि आंगनवाड़ी केन्द्रो में बच्चो को अंडे दिए जाएंगे, जब इस मामले ने तूल पकड़ा तो भाजपा नेता शांत रहे पर मुख्यमंत्री ने अपनी ही मंत्री की बात तो काटते हुए अंडे की जगह दूध दिए जाने की बात कही। अब पार्टी के दबाव के चलते इमरती देवी अब दूध दिए जाने की बात कह रही हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co