Gwalior : कलेक्टर की फटकार से सहमे अधिकारी, दिन भर चली वैक्सीनेशन की तैयारी
कलेक्टर की फटकार से सहमे अधिकारी, दिन भर चली वैक्सीनेशन की तैयारीसांकेतिक चित्र

Gwalior : कलेक्टर की फटकार से सहमे अधिकारी, दिन भर चली वैक्सीनेशन की तैयारी

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : नगर निगम के विभिन्न क्षेत्रीय कार्यालयों पर सोमवार को दिन भर वार्ड मॉनिटर बैठकें लेते रहे। यह बैठक महा वैक्सीनेशन अभियान को लेकर थी।

हाइलाइट्स :

  • निगम के वार्ड मॉनिटरों ने जोन ऑफिस पर बीएलओ सहित अन्य कर्मचारियों की ली बैठक।

  • हर वार्ड मॉनिटर को 500 लोगों को वैक्सीन लगाने की दी गई है जिम्मेदारी।

  • लक्ष्य पूरा नहीं होने पर वेतन वृद्धि रोकने सहित अन्य कार्यवाही की जाएगी।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। नगर निगम के विभिन्न क्षेत्रीय कार्यालयों पर सोमवार को दिन भर वार्ड मॉनिटर बैठकें लेते रहे। यह बैठक महा वैक्सीनेशन अभियान को लेकर थी। इसमें बीएचओ, निगम के टीसी सहित अन्य कर्मचारी उपस्थित थे। बैठक में विभिन्न क्षेत्रों में पहुंचकर वैक्सीन लगवाने के विषय में चर्चा की गई। वार्ड मॉनिटरों ने सख्त हिदायत दी कि वैक्सीन लगवाने के कार्य में जो भी लापरवाही करेगा उसके खिलाफ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाएगा।

डेंगू के बढ़ते मामले एवं कोविड 19 के बचाव के लिए वैक्सीन लगाने के लक्ष्य में पिछडऩे पर कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने रविवार को आयोजित बैठक में जमकर लताड़ लगाई थी। उन्होंने कहा था कि जो भी अधिकारी, कर्मचारी वैक्सीनेशन के कार्य में लापरवाही बरतेगा उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही होगी। इसे आप लोग धमकी समझना तो यह धमकी ही है। कलेक्टर के सख्त तेवरों को देखते हुए सोमवार से निगम अधिकारी वैक्सीनेशन के लक्ष्य की पूर्ति के लिए पूरी तरह से जुटे गए हैं। किस क्षेत्र में कैसे वैक्सीन लगाई जाए और घरों का सर्वे कर कैसे लोगों को जोन पर वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंचाया जाए इस पर चर्चा होती रही। अधिकारियों ने निश्चित किया कि जो लोग स्वस्थ्य है और चलने फिरने में समर्थ हैं और उन्होंने दूसरा डोज नहीं लगवाया है तो समझाईश देकर हर हाल में उन्हें जोन तक ले जाया जाए। जो लोग चलने फिरने में समर्थ नहीं है उन्हें घर में ही वैक्सीन लगाई जाए। वार्ड मॉनिटर देर पर तक प्लानिंग में ही जुटे हुए थे।

अन्य कार्यों में नहीं लगाई जाएगी ड्यूटी :

कोरोना महावैक्सीन अभियान 10, 17 और 24 नवम्बर और 01 दिसम्बर को चलाया जाना है। इस महाअभियान के लिए प्रदेश भर में तैयारी चल रही है। लेकिन 10 नवंबर को आयोजित हुई महाअभियान के परिणाम बेहतर बुरे आए थे। इसे लेकर कलेक्टर नाराज थे। अब 17 नवंबर को फिर महाअभियान चलेगा और इसमें जो लक्ष्य दिया गया है उसकी पूर्ति हर हाल में की जानी आवश्यक है। इसके लिए सभी वार्ड मॉनिटरों को 500-500 वैक्सीन लगाने का लक्ष्य दिया गया है। नगर निगम में 66 वार्ड हैं और इस तरह से 33000 हजार वैक्सीन लगाना आवश्यक है। बाकी बचे 17000 हजार डोज ग्रामीण क्षेत्रों में लगाने का लक्ष्य रखा गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.