Gwalior : सिंधिया के स्वागत में उमड़ा जनसैलाब
निरावली से शुरू हुआ स्वागतरथ, देररात तक शहर में घूमाRaj Express

Gwalior : सिंधिया के स्वागत में उमड़ा जनसैलाब

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के बाद पहली बार अपने गृहनगर ग्वालियर आए ज्योतिरादित्य सिंधिया का बुधवार को अभूतपूर्व स्वागत किया गया।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के बाद पहली बार अपने गृहनगर ग्वालियर आए ज्योतिरादित्य सिंधिया का बुधवार को अभूतपूर्व स्वागत किया गया। उनके स्वागत रथ पर कुछ समय के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी सवार हुए। एक ओर उनके स्वागत में समर्थकों का हुजूम उमड़ उमड़ पड़ा। निरावली से उनका स्वागत रथ तैयार हुआ, जो देररात तक शहर में घूमा। इस दौरान वे मंसूर अली शाह की दरगाह पर माथा टेकने भी पहुंचे।

उनके स्वागत मार्ग में ढाई सौ से अधिक स्वागत द्वार बनाए गए और उनके उत्साहित समर्थक घंटों माला लिए खड़े रहे। बताया जा रहा है कि स्व. माधवराव सिंधिया जब पहली बार केंद्रीय मंत्री बनने के बाद ग्वालियर आए थे, तो ऐसी ही स्वागत हुआ था। इस लिहाज से समय ने एक बार खुद को दोहराया है। दिलचस्प बात यह रहे की जयभान सिंह पवैया और प्रभात झा को छोड़कर उनके कांग्रेस में रहने के दौरान जर्बदस्त विरोध करने वाले नेता भी उनके स्वागत में पलक पांवड़े बिछाए नजर आए। सिंधिया की स्वागत यात्रा के लिए प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने खासतौर पर इंदौर से खूबसूरत रथ मंगवाया था, जिस पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी निरावली से सवार हुए, हालांकि कुछ किलोमीटर साथ चलने के बाद वे अन्य कार्यक्रम में शामिल होने के लिए चले गए। उनके साथ रथ पर प्रभारी मंत्री तुसली सिलावट के साथ उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह, सांसद विवेक नारायण शेजवलकर भी रथ पर सवार रहीं। उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने सिंधिया का निरावली पर स्वागत किया, जहां उनके स्वागत के लिए सुबह से ही कार्यकर्ता जमा थे। मुरैना से ही सिंधिया का जोरदार स्वागत शुरू हो गया, ग्वालियर आते आते यह सैलाब में तब्दील हो गया। सिंधिया के स्वागत जुलूस में करीब एक दर्जन मंत्री शामिल हुए व अंचल भर से समर्थक ग्वालियर आए। उर्जामंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर सिंधिया के साथ रथ पर तो सवार नहीं थे, लेकिन शहर में उनके स्वागत कार्यक्रम को वे ही कोर्डिनेट कर रहे थे। बहोड़ापुर पर ज्ञानेश्वरी ढोल ताशा पथक दल ने अनूठे अंदाज में सिंधिया का स्वागत किया। सफेद परिधान और केसरिया पगड़ी लगाए स्कूल-कॉलेज के बच्चों से तैयार इस बैंड ने सभी का ध्यान खींच लिया। सिंधिया की स्वागत यात्रा में मांझी समाज नाव की झांकी लेकर शामिल हुआ। सिंधिया जब अपना काफिला लेकर नदीगेट से गुजर रहे थे तो मोतीतबेला के पास पिछड़ा वर्ग समाज के लोगों ने उन्हें काले झंडे दिखाकर कुछ समय के लिए सनसनी फैला दी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.